स्वच्छता जागरूकता परिचर्चा मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा 2 अक्टूबर को बिलासपुर सबसे स्वच्छ शहर हो जाएगा….

- विकल्प तललवार

बिलासपुर : पूरे शहरवासियों के सहयोग से महात्मा गांधी की जयंती पर 2 अक्टूबर 2018 को बिलासपुर शहर सबसे स्वच्छ शहर हो जाएगा। इसके लिए हम सभी संकल्पित हैं। सितंबर के पहले सप्ताह में कछार में सालिड वेस्ट मैनेजमेंट आधारित आरडीएफ प्लांट और शहर के मुख्य मार्गों की सफाई के लिए आईसीटी बेस्ड मैकेनिजम सिस्टम शुरू हो जाएगा। इससे शहर की सफाई पहले से और बेहतर होगी।उक्त बातें सोमवार की शाम विवेकानंद उद्यान में आयोजित स्वच्छता जागरूकता परिचर्चा में नगरीय निकाय व विकास और उद्योग मंत्री अमर अग्रवाल ने कही। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब पहली बार लालकिला से भाषण दिया तो उन्होंने एक कदम स्वच्छता की ओर का नारा दिया। इसे पूरे देश में जनआंदोलन के रूप में शुरू किया गया। इसका परिणाम यह है कि देश में स्वच्छता की लहर चल रही है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण 4302 शहरों में बिलासपुर शहर को 22वां रैंक मिला है।

इसी तरह 110 स्मार्ट शहरों में रहने लायक शहरों में बिलासपुर ने 13वां स्थान प्राप्त किया। इस बात गर्व है कि हम सभी के प्रयास से बिलासपुर शहर आज नया कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। उन्होंने कचरे का विधिवत निष्पादन के लिए अंबिकापुर माॅडल की प्रशंसा की और पूरे 162 यूएलबी में अपनाने और कचरे का विधिवत निष्पादन करने की बात कही। इस दौरान उन्होंने शहरवासियों से इसी तरह प्रेम.स्नेह व आपसी सामंजस्य से रहने की अपील की। इससे पूर्व निगम कमिश्नर सौमिल रंजन चौबे ने कार्यक्रम की जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण में 22वां स्थान और रहने लायक शहरों में 13वां स्थान आना पर शहर वासियों के सहयोग से हुआ। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्वच्छता मिशन की शुरुआत में खुले में शौच मुक्त शहर करना एक बड़ी चुनौती थीए जिसे भी सभी के सहयोग से पूरा किया जा सका है। इस दौरान उन्होंने स्वच्छता को बनाए रखने व्यवहार में परिवर्तन लाने की अपील की। कार्यक्रम में महापौर श्री किशोर रायए स्वच्छता ब्रांड एम्बेसडर डाण् देवेंद्र सिंहए हरीश केडियाए एमआईसी सदस्य श्रीमती अंजनी कश्यप सहित जनप्रतिनिधिए शहर के लोग व निगम के अधिकारी व कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

सफाई में सभी की भागीदारी जरूरी
परिचर्चा कार्यक्रम में भाग लेते हुए सुधाकर दुबे ने कहा कि एक समय 6 इंच नाली हुआ करता था। अब शहर बढ़ रहा है। इसलिए स्वच्छता बनाए रखने की चुनौतियां भी बढ़ रही है। उन्होंने सिवरेज सिस्टम की तारीफ की। उन्होंने कहा कि घर में अगर पेंट भी कराना रहता है तो सामनों के बिखराव की बड़ी समस्या उत्पन्न होती है। इसी तरह सिवरेज के कारण शहर में समस्या रहीए लेकिन निश्चित तौर पर यह भी एक सफल योजना साबित होगी। इस दौरान उन्होंने स्वच्छता के लिए निगम द्वारा चलाए गए कार्यों की प्रशंसा करते हुए शहर को स्वच्छ रखने सभी की भागीदारी सुनिश्चित करने की अपील की। जेपी वर्मा कालेज की प्राध्यापक जया अग्रवाल ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण में हमारा शहर 22वां स्थान पर है यह गर्व की बात है।

उन्होंने डोर टू डोर कलेक्शन कार्य की सराहना की। श्रीमती अग्रवाल ने कहा कि शहर में पानी निकासी सुव्यस्थित करने के लिए कांक्रीट नालियां बनाई जा रही है। इसी तरह इन नालों में वार्ड का नाम लिखा हुआ वाला स्लैब भी डाला जा रहाए जो व्यवस्थित कार्य का परिचायक है। इस दौरान उन्होंने व्यापार विहार सड़क के डिवाइडर पर तुलसी के पौधे लगाने के साथ कचरा फैलाने वालों पर जुर्माना करने के सुझाव दिए।

हरिभूमि के सह संपादक यशवंत गोहिल ने कहा कि स्वच्छता की शुरुआत हम से न कर मैं से करना होगा।उन्होंने कहा कि स्वच्छता के प्रति माइंड सेट करना जरूरी है। व्यवहारों में परिवर्तन भी हो रहे हैं। डोर टू डोर कचरा कलेक्शन के दौरान चलने वाला गाना और पक्का पापड़ कच्चा पापड़ की जगह गीला कचरा सूखा कचरा गाना ने निश्चित तौर पर भावी पीढ़ी के व्यवहारों में परिवर्तन लाया है।

स्वच्छता ब्रांड एम्बेसडर डाण् देवेंद्र सिंह ने कहा कि स्वच्छता हमारे जीवन में सदियों से जुड़े हैं। उन्होंने स्वच्छता के प्रति लोगों के जुड़ाव होने संबंधित बातों पर जोर दिया। इस दौरान उन्होंने कचरा नहीं फैलने और डस्टबीन में ही कचरा डालने के साथ प्लास्टिक का उपयोग कम से कम करने की अपील की। लघु उद्योग संघ के अध्यक्ष व स्वच्छता नवरत्न श्री हरीश केडिया ने अपने विदेश भ्रमण की यादेें ताजा करते हुए बताया कि वहां एक फैमिली फ्रेंड से मुलाकात हुई थीए वे लोगों को भ्रमण कराने संबंधित व्यवसाय करते हैं। स्वच्छता मिशन के पूर्व भारत में गंदगी के कारण लोगों का भ्रमण कम होता थाए लेकिन स्वच्छता मिशन के बाद अब भारत भ्रमण करने वालों की लाइन लगी रहती है। इस दौरान उन्होंने डोर टू डोर वाहनों को कचरा देना अपनी दिनचर्या का हिस्सा बताया। इस दौरान उन्होंने पान गुटखा खाकर कही भी नहीं थूकने और कचरा कहीं भी नहीं डालने संकल्प लेने की लोगों से अपील की।

Back to top button