स्वच्छता सर्वेक्षण में शहर को नंबर 1 लाने कमान संभाली स्वच्छता सखियों ने

अपने नगर को सुंदर बनाने एवं स्वच्छता सर्वेक्षण में नंबर 1 लाने अब महिलाओं ने भी कमान संभाल ली है। स्वच्छता सर्वेक्षण में अपना शहर अग्रणी हो सके, इसके लिए नागरिकों से स्वच्छता संबंधी फीडबैक लेने केंद्रीय दल आएगा और नागरिकों से स्वच्छता सर्वेक्षण में दिए गए प्रश्न पूछेगा।

स्वच्छता सर्वेक्षण में शहर को नंबर 1 लाने कमान संभाली स्वच्छता सखियों ने

स्वयं पहल कर आगे आईं, ली स्वच्छता की जिम्मेदारी, कर रहीं लोगों को जागरूक

स्वच्छता के संबंध में स्वच्छता सखी के रूप में नवाचार करने वाला राजनांदगांव प्रदेश का पहला जिला

राजनांदगांव : अपने नगर को सुंदर बनाने एवं स्वच्छता सर्वेक्षण में नंबर 1 लाने अब महिलाओं ने भी कमान संभाल ली है। स्वच्छता सर्वेक्षण में अपना शहर अग्रणी हो सके, इसके लिए नागरिकों से स्वच्छता संबंधी फीडबैक लेने केंद्रीय दल आएगा और नागरिकों से स्वच्छता सर्वेक्षण में दिए गए प्रश्न पूछेगा। यदि नागरिकों ने सही जवाब दिए तो स्वच्छता सर्वेक्षण में शहर की रैंकिंग बढ़ जाएगी। घर-घर तक लोगों को जागरूक करना महती दायित्व था, यह कैसे हो पाएगा? इस संबंध में कलेक्टर श्री भीम सिंह ने स्वच्छता सखी का विचार किया। अपने वार्ड भ्रमण के दौरान हुए अनुभवों से उन्होंने पाया कि महिलाएँ पुरुषों से भी अधिक अपने वार्ड की सफाई के प्रति सजग थीं।

इनमें से कई महिलाओं में उन्हें नेतृत्व क्षमता और वाक अभिव्यक्ति भी नजर आई। इस संबंध में नगर निगम कमिश्नर श्री अश्विनी देवांगन से चर्चा कर उन्होंने इसका प्रारूप तैयार किया कि हर वार्ड में स्वच्छता सखी बनाई जाएंगी। इनका चयन वार्ड की उन महिलाओं से किया गया जिन्होंने वार्ड सभा के दौरान स्वच्छता के प्रति गहरी जागरूकता दिखाई और अपने वार्ड में स्वच्छता का माहौल तैयार करने संकल्पित दिखीं। साथ ही जिनकी अभिव्यक्ति क्षमता भी अच्छी थीं ताकि लोगों को सीधे-सरल शब्दों में स्वच्छता का संदेश दे सकें। स्वच्छता सखियाँ नगर में महीने भर से काम कर रही हैं और कमाल के नतीजे सामने आ रहे हैं। सखियां वार्ड सभा भी ले रही हैं डोर टू डोर स्वच्छता सर्वेक्षण का प्रचार भी कर रही हैं और स्वच्छता ऐप भी डाउनलोड करा रही हैं।

स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए लोगों को जागरूक करने निकलीं गीता साहू ने बताया कि हम सब अपने परिवार के लिए बहुत सा वक्त देते हैं हमारा यह भी कर्तव्य है कि थोड़ा सा वक्त अपने शहर को सुंदर बनाने के लिए भी दें। मैं बहुत धन्यवाद निगम प्रशासन को देना चाहती हूँ कि उन्होंने मुझे स्वच्छता सखी के लिए चुना। कुछ अच्छा काम करते रहने की मन में हमेशा से इच्छा होती है। आज ऐसा अवसर मिला है तो हम लोग अभियान के रूप में लग गए हैं।

वार्ड 1 से वीना टंडन ने बताया कि मैं हमेशा अपने घर को साफ रखती थी लेकिन सड़क में चारों ओर धूल उड़ रही हो तो घर कब तक साफ रहेगा? ऐसे में मुझे लगा कि जब तक हम अपने आसपास के परिवेश को साफ रखने में सफल नहीं होंगे, हमारा घर भी गंदा होता रहेगा। स्वच्छता संबंधी यही संदेश मैं सबको देती हूँ। वार्ड नंबर 21 से रेखा कसेर ने बताया कि एक बार जब हमारा शहर स्वच्छता सर्वे में पहले नंबर पर आ गया तो सबके सामने इसे हमेशा आगे रखने की चुनौती होगी और शहर हमेशा साफ सुथरा रहेगा जिसका फायदा हम रहवासियों को ही मिलेगा।

स्वच्छता सखियों के अभियान से जुड़ी एनयूएलएम की मिशन मैनेजर श्रीमती सुषमा मिश्रा ने बताया कि स्वच्छता सखियों में जबर्दस्त उत्साह है। वे लगातार लोगों से मिल रही हैं। उन्हें स्वच्छता सर्वेक्षण के बारे में बता रही हैं। इससे जबर्दस्त जागरूकता का माहौल बन रहा है। उन्होंने बताया कि बहुत सी ऐसी सखी भी हैं जिनकी उम्र पचास वर्ष से अधिक है लेकिन फिर भी वे पूरे जोश से स्वच्छता अभियान का नेतृत्व कर रही हैं।

ये प्रश्न पूछे जाएंगे सर्वे में –

1. क्या आप जानते हैं कि आपका शहर स्वच्छता सर्वे में हिस्सा ले रहा है।

2. क्या पिछले साल के मुकाबले आपका क्षेत्र साफ है?

3. इस साल आपने सार्वजनिक क्षेत्र के कूड़ेदान का उपयोग शुरू कर दिया है?

4. क्या आप अलग-अलग कचरा निकालने की व्यवस्था से संतुष्ट हैं?

5. क्या आपको लगता है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल शहर में मूत्रालय/शौचालय की संख्या बढ़ी है।

6. क्या सार्वजनिक शौचालय अब अधिक साफ और सुलभ हैं।

advt
Back to top button