बंद रही मेडिकल दुकानें, दिन भर भटकते रहे लोग

आॅनलाइन दवा बिक्री के विरोध में भारत बंद का अंबिकापुर और सीतापुर में भी दिखा असर

अंबिकापुर/सीतापुर। व्यापारियों के संगठन कैट (कंफेडरेशन आॅफ आॅल इंडिया ट्रेडर्स) ने वालमार्ट द्वारा घरेलू खुदरा कंपनी फ्लिपकार्ट के अधिग्रहण और खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के विरोध में शुक्रवार को भारत बंद का आह्वान किया है। जिसका छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले में व्यापक असर देखने को मिल रहा है। यह असर सीतापुर और अंबिकापुर में भी देखने को मिला।

यहाँ सभी मेडिकल दुकानें बंद रही। जिसके चलते मरिजों के परिजनों को दवाओं के लिए भटकते भी देखा गया। हालांकी जेनेरिक दवाओं की दुकान खुली रहीं जिससे लोगों को थोड़ा सहारा मिला। आॅल इंडिया केमिस्ट संघ का कहना है कि आॅनलाइन पोर्टल बगैर किसी जवाबदारी के दवा पर्चे की प्राथमिकता को परखे बगैर दवा उपलब्ध कराते हैं। जो मानव हित में घातक परिणाम दे सकता है।

ज्ञात हो कि आॅनलाइन दवा बिक्री के खिलाफ केमिस्ट संघ ने एक दिवसीय भारत बंद का ऐलान किया है।

सभी मेडिकल शॉप पूरी तरह बंद है जो रात्रि 12 बजे तक बंद ही रहेंगे। एक दिवसीय इस केमिस्ट बंद के दौरान चरणबद्ध बंद व धरना प्रदर्शन के माध्यम से इंटरनेट फार्मेसी को मान्यता देने वाले कानून का पुरजोर विरोध किया गया।

विदित हो कि भारत सरकार द्वारा 28 अगस्त 2016 को एक नोटिफिकेशन जारी किया गया है जिसमें आॅनलाइन दवा बिक्री को नियमित करने का प्रस्ताव है। इस पर केमिस्ट संघ ने विरोध जताते हुए इसे रद्द करने की मांग की है।

<>

Back to top button