तेंदूभांठा के तालाब की मेड़ से पैदल चलकर इसके घर पहुंचे सीएम

गांवों में विभिन्न योजनाओं के तहत चल रहे विकास कार्यों का आकस्मिक निरीक्षण भी किया।

तेंदूभांठा के तालाब की मेड़ से पैदल चलकर इसके घर पहुंचे सीएम

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रदेशव्यापी लोक सुराज अभियान के तहत आज बेमेतरा जिले के ग्राम तेंदूभांठा और जिला बालोद के ग्राम भण्डेरा के समाधान शिविरों में शामिल हुए। उन्होंने इन गांवों में विभिन्न योजनाओं के तहत चल रहे विकास कार्यों का आकस्मिक निरीक्षण भी किया।

तेंदूभांठा के शिविर में उन्होंने राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत जिला मुख्यालय बेमेतरा के महिला स्वसहायता समूह की दो महिलाओं श्रीमती मंजू साहू और श्रीमती प्रेमिन बाई को ई-रिक्शा भेंट किया। मुख्यमंत्री पहले तेंदूभांठा और उसके बाद भण्डेरा पहुंचे।

उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गांवों में बन रहे मकानों के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली। डॉ. सिंह ने तेंदूभांठा के तालाब की मेड़ से पैदल चलकर इस योजना की हितग्राही श्रीमती रोहिणी बाई के घर पहुंचे। साथ ही उन्होंने तालाब का भी निरीक्षण किया।

मुख्यमंत्री को इस तरह अचानक अपने घर के दरवाजे पर देखकर श्रीमती रोहिणी बाई और उनका परिवार चकित रह गया। श्रीमती रोहिणी बाई को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 में पक्का मकान स्वीकृत किया गया था। वे अब अपने परिवार सहित इस मकान में रहने लगी हैं। उन्होंने और उनके परिवार के लोगों ने इसके लिए प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया।

डॉ. रमन सिंह ने तेंदूभांठा के समाधान शिविर में कई घोषणाएं की। जनता को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों के आग्रह पर तेंदूभांठा में दो नग सीमेंटकांक्रीट सड़क निर्माण के लिए दस लाख रूपए, ग्राम काचरी में भी सीसी रोड के लिए दस लाख रूपए और तेंदूभांठा में तालाब गहरीकरण और पिंचींग कार्य के लिए 15 लाख रूपए तत्काल मंजूर करने का ऐलान किया।

डॉ. सिंह ने यह भी कहा कि इस वर्ष मई महीने के अंत तक बेमेतरा जिले के सभी गांवों और मजरो-टोलों का विद्युतीकरण हो जाएगा। समाधान शिविर में मुख्यमंत्री को यह जानकारी मिली कि तेंदूभांठा क्लस्टर के गांवों में प्रधानमंत्री आवास योजना और शौचालय निर्माण की कुछ राशि का भुगतान बकाया है। इस पर उन्होंने अधिकारियों को एक महीने के भीतर भुगतान करवाने के निर्देश दिए।

डॉ. रमन सिंह को ग्रामीणों ने बताया कि तेंदूभांठा में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की राशन दुकान महीने में सिर्फ एक ही बार खुलती है। इस पर मुख्यमंत्री ने नाराजगी व्यक्त की और अधिकारियों से कहा कि इस दुकान के सेल्समेन को हटाकर वैकल्पिक व्यवस्था की जाए और अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि राशन दुकान नियमित रूप से खुले।

advt
Back to top button