CM भूपेश बघेल ने भाजपा को बताया महिला विरोधी पार्टी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज टिकट बंटवारे को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी है। सीएम ने भाजपा को महिला विरोधी पार्टी बताते हुए कहा कि भाजपा को अपने नेताओं पर विश्वास ही नहीं है, तभी तो जीते हुए सांसद का टिकट काट रहे हैं। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की लहर चली और भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया। लोकसभा चुनाव में भाजपा जिस तरह से टिकट का बांट रही है। उनकी हार पक्की है।

एक के बाद एक जारी हो रहे भाजपा प्रत्याशियों के लिस्ट को लेकर पहली बार मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मीडिया के सामने बयान दिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा को अब अपने जुझारू और निष्ठावान नेताओं पर भरोसा नहीं है। भाजपा ने वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी सहित रायपुर से 7 बार के सांसद रहे रमेश बैस और रायगढ़ के विष्णुदेव साय को टिकट ही नहीं दिया।

आपको बात दें कि भाजपा ने पहली लिस्ट में गांधीनगर से मौजूदा सांसद और वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को टिकट नहीं दिया। बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में रहे 91 वर्षीय आडवाणी लगातार 6 बार गांधीनगर लोकसभा सीट से चुनाव जीत चुके हैं। उनकी जगह बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष इस सीट से चुनावी मैदान में उतरेंगे।

7 बार चुनाव जीत चुके हैं रमेश बैस

रायपुर के मौजूद सांसद रमेश बैस 1989 में पहली बार लोकसभा चुनाव जीते थे। इसके बाद 1991 में विद्याचरण शुक्ल से हार का सामना करना पड़ा। 1996 से लेकर लगातार 6 बार चुनाव जीतते आ रहे हैं। लेकिन इस बार भाजपा ने रमेश बैस को टिकट नहीं देने का मन बनाया है।

केन्द्रीय इस्पात मंत्री रहे विष्णुदेव साय

रायगढ़ लोकसभा सांसद विष्णुदेव साय को भाजपा ने टिकट नहीं दिया है। विष्णुदेव साय भाजपा के दिग्गज नेता है। विष्णुदेव साय केन्द्रीय इस्पात मंत्री भी रहे। लगातार चुनाव जीतने का रिकार्ड विष्णुदेव साय के नाम है। फिर भी भारतीय जनता पार्टी ने विष्णुदेव साय को दरकिनार करते हुए टिकट नहीं दिया।

Back to top button