सीएम ने एनएचएम भवन का लोकार्पण किया, वैक्सीन को बताया संजीवनी बूटी

डॉक्टरों के खाली पदों को लेकर जताई चिंता

भोपाल । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को भोपाल में एनएचएम भवन का लोकार्पण किया। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी जिलों के कलेक्टरों कमिश्नरों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 16 जनवरी को शुरु होने जा रहे टीकाकरण अभियान के तैयारियों की समीक्षा की, इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 16 जनवरी को टीकाकरण का अभियान सुबह 9 बजे पूरे प्रदेश में एक साथ शुरु होगा। उन्होंने कलेक्टरों से कहा है कि वो ये प्रयास करें कि पहला टीका सफाई कर्मचारी को लगे। उन्होंने कहा कि फ्रंट लाइन वर्कर्स जैसे पुलिस कर्मी, राजस्व अमला भी सुरक्षित होना जरूरी है।

सीएम शिवराज ने धर्म गुरुओं से अपील की है कि वो स्थानीय स्तर पर जिला प्रशासन के टीकाकरण की प्राथमिकताओं की जानकारी आमजनों को दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण का अभियान 16 से शुरू हो रहा। इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देते हुए कहा कि वो दूरदर्शी हैं, इसलिए कोरोना के संकट को पहचान कर व्यवस्थाएं देश में संभाल ली गईं। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन से व्यवस्थाएं करने का समय मिल गया था। प्रधानमंत्री के आह्वान पर पूरा देश एकजुट हुआ। यही वजह है कि कोरोना मध्यप्रदेश में आउट ऑफ कंट्रोल नहीं हुआ और समय रहते सभी प्रबन्ध कर लिए गए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीन संजीवनी बूटी है, लेकिन फिलहाल सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है।

इससे पहले स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने टीकाकरण अभियान के तैयारियों की जानकारी दी, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से जुड़े सभी अफसरों से कहा कि स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर बनाना सरकार की पहली प्राथमिकता है, उन्होंने कहा कि हर शहर में एक शासकीय हास्पिटल आइडियल होना चाहिए। जिला अस्पतालों में निजी अस्पतालों की तरह सुविधाएं मिले, इसके प्रयास किए जाएं। हमारे पास संसाधनों की कोई कमी नहीं है।आयुष्मान भारत से रजिस्टर्ड अस्पताल भी बेहतर होना जाहिए। इस दौरान मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों के खाली पदों को लेकर भी चिंता जाहिर की, सीएम ने कहा कि सरकार का प्रयास अस्पतालों में सेवाएं बेहतर करने का है। जिसमें डॉक्टरों के खाली पदों को भरने की दिशा में प्रक्रिया चल रही है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button