CM ममता ने राहुल गांधी को किया नजरअंदाज

नेशनल डेस्क: कर्नाटक में भाजपा सरकार गिरते ही कांग्रेस और जेडीएस में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। विपक्षी दलों ने लोकतंत्र और एकता की एक बड़ी जीत बताया। इसी क्रम में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी खुशी जताते हुए कांग्रेस और जेडीएस को बधाई दी। माना जा रहा है कि उन्होंने कर्नाटक के सियासी घटनाक्रम पर पैनी नजर रखी हुई थी। हालांकि इस दौरान सुश्री बनर्जी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को नजरअंदाज करती हुई दिखाई दी।

दरअसल शनिवार को ममता ने ट्वीट किया कि लोकतंत्र की जीत हुई कर्नाटक को बधाई। देवगौड़ा जी, कुमारस्वामी जी, कांग्रेस और अन्य नेताओं को बधाई। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में क्षेत्रीय दल सियासी भविष्य की रूपरेखा तैयार करेंगे। सीएम की इस लिस्ट में कांग्रेस का नंबर चौथा था लेकिन उसमें राहुल गांधी का जिक्र तक नहीं किया गया। यही नहीं अखिलेश यादव और चंद्रबाबू नायडू ने भी इस जीत के लिए कांग्रेस अध्यक्ष को श्रेय नहीं दिया। इन दोनों नेताओं ने अपने ट्वीट में कर्नाटक में मिली कामयाबी को लोकतंत्र की जीत करार दिया।

राजनीति सूत्रों के अनुसार ममता राहुल गांधी को आगामी चुनाव में पीएम का चेहरा बनाए जाने से खुश नहीं हैं और वह खुद को पीएम मोदी के खिलाफ खड़ा करना चाहती है इसलिए वह इन दिनों नई रणनीति बनाने में लगी हुई हैं। हालांकि वह राहुल गांधी और सोनिया गांधी की पीएम मोदी के खिलाफ शुरू की गई नीति के साथ हैं लेकिन आगामी चुनाव में वो खुद को अहम रोल देना चाहती हैं। सीएम की सक्रियता हाल ही में यूपी- बिहार में हुए उपचुनाव में राजद-सपा के उम्मीदवारों की जीत के बाद भी देखा गया जब उन्होंने लालू प्रसाद और अखिलेश यादव को पार्टी उम्मीदवार की जीत पर बधाई दी थी। विशेलेषकों का मानना है कि उनकी यह कवायद भी खुद को थर्ड फ्रंट की नेता के तौर पर स्थापित करने की थी।

गौरतलब है कि पिछले दिनों पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने दिल्ली दौरे में कई विपक्षी नेताओं से मुलाकात की लेकिन इस दौरान उन्होंने राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मुलाकात नहीं की। ऐसे में राजनीतिक हलचल भी काफी तेज हो गई थी। यह भी माना जा रहा है कि आगामी 2019 लोकसभा चुनाव में सीएम ममता गैर भाजपा और गैर कांग्रेस की रणनीति पर चल रही है और कांग्रेस को छोड़कर सभी विपक्षी दलों से रिश्ते सुधारने में लगी हैं।
<>

new jindal advt tree advt
Back to top button