बिल्हा क्षेत्र में फिर सक्रिय हुए कोल माफिया…………..

स्थानीय प्रशासन कोल डिपो के अवैध कारोबार पर अंकुश लगाने में नाकाम

भरत सिंह

बिलासपुर । बिल्हा क्षेत्र के मोहदा एवं बोड़सरा गांव में स्थित वैध कोल डिपो में कोयले की कालाबाजारी चरमसीमा पर हैं।

तो दूसरी ओर जहां जिला प्रशासन लगातार कोयले का अवैध कारोबार करने वालों के खिलाफ लगातार कार्यवाही कर रही है। दूसरी ओर स्थानीय प्रशासन कोल डिपो के अवैध कारोबार पर अंकुश लगाने में नाकाम हैं।

मामला रायपुर रोड मुख्य मार्ग से 5 सौ मीटर अंदर मोहदा एवं बोड़सरा गांव में स्थित कोल डिपो में संचालित हो रहा। पिछले साल से कोल डिपो स्थापित को वहां स्थपित किया गया।

स्थापित करने के बादकोयले का कालाबाजारी धड़ल्ले से चल रहा है। पर देर रात होतें ही कोयले की काले कारोबार की तस्वीर भी बदल जाती है। कोल डिपों में कोयले का अवैध कारोबार जमकर चलता है।

कोयले से भरे ट्रक डिपो में होते है खाली

कोरबा जिले के कोयला खदानों से निकलने वाले कोयले से भरे ट्रक को डिपो में खाली होते हैं। उच्च क्वालिटी के स्टीम कोयले की जगह डिपो में रखे मिलावटी और गुणवत्ताहीन कोयले को लोडकर दूसरे को सप्लाई किया जाता है।

चोरी का कोयला कोल डिपो खपाया जाता है। चोरी के कोयले को कोल डिपो के द्वारा बिल बना कर पासिंग करा दिया जाता है।

स्थानीय ग्रामीणों में खौफ

मीडिया ने जब स्थानीय ग्रामीणों से इस मामले में पूछताछ की तो लोग माफियाओं के डर से कुछ भी बताने से इंकार कर रहे थे। पहचान उजागर न करने के शर्त पर नगर के दोनो कोल डिपो के अवैध कारोबार की जानकारी ग्रामीणों ने दी।

इस मामले में स्थानीय निवासियों का कहना है कि दोनों कोल डिपों में रात में ट्रेलर और हाइवा की आवाजाही चालू हो जाती है। कोल डिपो में कोयले मिक्सिंग का खेल चलने लगता है और यहां पर वैध कोल डिपों में कोयले का अवैध कारोबार जोरो से चलने लगता है। और सुबह होते ही सब कुछ सामान्य ढंग से चलने का दिखावा किया जाता है।

डिपो से उड़ने वाले धूल से मौसमी फसल बर्बाद

कुछ ग्रामीणों का कहना है कि कोल डिपों के कारण डिपो से उड़ने वाला डस्ट गांव के किसानों के खेतों एवं घरों में पड़ता है जिससे मौसमी फसल बर्बाद हो रही है। पर कोल डिपों संचालक के रसूख के चलते स्थानीय प्रशासन कार्रवाई करने से परहेज करते हैं।

खनिज अधिकारी ने दिया रटा-रटाया जवाब

धड़ल्ले से चल रहे अवैध करोबार के बारे में खनिज अधिकारी से बात की तो अधिकारी ने हमेशा की तरह रटा रटाया जवाब देते हुये शिकायत आने के बाद कार्रवाई करने की बात कही।

बहरहाल एक ओर जहां जिले में पदस्थ नव पदस्थ आईजी और एस पी अवैध कारोबार करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई वाही किए जाने की बात को प्रमुखता से बतलाते है तो वही दूसरी ओर यहां के स्थानीय अधिकारियों को इस प्रकार से अवैध कारोबार करने वाले रसूखदारों के खिलाफ शिकायत का इंतजार है।

Back to top button