छत्तीसगढ़

कोल माफिया ने किया फर्जी शिकायत, सिविल लाईन थाने में मामला दर्ज

मनमोहन पात्रे :

बिलासपुर :

जमीन से जुड़ी मामले में फिर एक बार FIR हुई। मगर इस बार मामला कुछ अलग है। प्राप्त जानकारी के अनुसार मामला 1 करोड़ 80 लाख रु में गौरवपथ स्थित एक जमीन का है। जिसमे प्राथी ने कमल किशोर गुप्ता के ऊपर 420 IPC का अपराध पंजीबद्ध किया है।

दस्तावेजों के अनुसार दोनों के बीच एक इकरारनामा हुआ था जो Vandana News के पास उपलब्ध है। इस इकरारनामा की लिखी पूरी बाते हम आपको बताने जा रहे हैं।

आखिर हुआ क्या ?

कमल किशोर गुप्ता ने 23.02.2018 को आकाश सिंघल को अपनी जमीन को गौरव पथ रोड में 6 हजार वर्ग फिट जमीन बेचने का सौदा किया। जिसका खसरा न- 255/1, 507/1 में से 6 हजार वर्ग फिट तीन हजार वर्ग प्रति वर्ग फुट पट बेची।

आकाश सिंघल ने कमल गुप्ता को 1 चेक दस लाख रुपये का जिसका चेक क्र॰- 000911 icici बैक और एक चेक 20 लाख रुपये का जिसका चेक क्र॰- 000912 के माध्यम से कमल गुप्ता से इकरार नामा कर लिया।

क्या है पूरा मामला ?

आकाश सिंघल ने कमल गुप्ता को 1 चेक दस लाख रुपये का जिसका चेक क्र0- 000911 icic बैक और एक चेक 20 लाख रुपये का जिसका चेक क्र0- 000912 के माध्यम से कमल गुप्ता से इकरार नामा कर लिया।

इकरार नामा में यह बात चित कर बाउंड्री के पहले 10 लॉख का चेक किलियर करवाऊँगा और दूसरा चेक जमीन पे बाउंड्री वाल होने के बाद किलियर करवा दूँगा इकरार नामा होने के बाद कमल किशोर गुप्ता ने 10 लाख का चेक किलियर करा लिया ।

उसके पश्चात 10 दिन के अंदर बाउंड्री वाल का निर्माण करा लिया उसके बाद कमल किशोर गुप्ता ने आकाश सिघल से सम्पर्क किया की भूमि पर बाउंड्री वाल कर दिया है और मैं आप का 20 लाख का चेक किलियर कराने के लिये लगा रहा हूँ।

आकाश सिंघल ने दो चार दिन रुकजओ कह कर टाल दिया फिर जब एक हप्ते बाद कमल गुप्ता ने आकाश सिंघल से सम्पर्क किया तो आकाश सिंघल ने यह कह कर मामला टाल दिया कि मेरी तेलीबाधा थाना रायपुर में 452 का अपराध कायम हो गया हैं इस लिये मैं कुछ दिन पेमेंट नही कर पाउँगा।

इस बात को लेकर कमल ने कहा मैं कुछ दिन और वेट कर लूंगा। कुछ दिन बाद फिर से बार बार कई बार काल करने पर फोन का कोई जवाब नही दिया तो कमल गुप्ता ने 20 लाख रुपये का चेक अपने एकाउंट में लगा दिया।

चेक बाउंस होने के बाद जैसे ही आकाश सिंघल को पता चला तो आकाश सिंघल कमल गुप्ता के घर गया तो बोला मुझे जानता नही मेरी पहुंच बहुत ऊपर तक है सरगुजा के कदावर मंत्री का ओ एस डी मेरा बहुत अच्छा दोस्त हैं देख मैं अब क्या करता हूँ

और पुलिस को गुमराह करते हुए जो जमीन आकाश सिघल ने 1 करोड़ 80 लाख में इकरारनामा किया और पुलिस को अपनी इनकम टैक्स बचाने के चक्कर मे 40 लाख बताकर FIR कराई।

कौन है ये आकाश सिंघल ?

देखा जाय तो आकाश सिंघल एक कोल माफिया है रतनपुर के बेलतरा क्षेत्र में कश्यप कोल डिपो के नाम से अवैध कोयला का कारोबार करता है कई बार पुलिस के उच्च अधिकारियों के द्वारा उसके कोयला डिपो में छापा मारा गया था कई बार कई सौ टन अवैध कोयला भी जप्त किया गया था।

Summary
Review Date
Reviewed Item
कोल माफिया ने किया फर्जी शिकायत, सिविल लाईन थाने में मामला दर्ज
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags