बेखौफ शुरू हो गए कोल डिपो सौ टन चोरी का कोयला जब्त

रतनपुर से लेकर हिर्री क्षेत्र में कोयले का अवैध कारोबार फिर से शुरू हो गया है। मंगलवार को एसपी के निर्देश पर हिर्री पुलिस ने बोड़सरा व डिघोरा स्थित दो कोल डिपो में दबिश देकर सौ टन चोरी का कोयला जब्त किया। इस कार्रवाई के दौरान पुलिस ने कोल डिपो संचालक व मैनेजर को पकड़ लिया। पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर मामले की जांच कर रही है।

आइजी दीपांशु काबरा व एसपी आरिफ एच शेख की सख्ती के बाद शुरुआत में कोल माफियाओं की नींद उड़ गई थी। रतनपुर क्षेत्र के साथ ही हिर्री, चकरभाठा, सकरी व कोटा क्षेत्र में लगातार कोल डिपो में दबिश देकर जांच की गई।

इस दौरान दर्जनभर कोल डिपो को सील कर दिया गया। लेकिन बाद में खनिज विभाग से मिलीभगत कर अधिकांश डिपो फिर से खुल गए। मंगलवार को एसपी शेख को सूचना मिली कि हिर्री क्षेत्र में दिन में भी कोयले का अवैध कारोबार चल रहा है।

इस सूचना पर उन्होंने सिविल लाइन सीएसपी नसर सिद्दिकी व हिर्री पुलिस को कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उनके निर्देश पर हिर्री टीआई आरके पात्रे अपनी टीम के साथ ग्राम बोड़सरा स्थित जसवानी कोल डिपो में दबिश दी।

इस दौरान डिपो संचालक संतु जसवानी भाग निकला। पुलिस ने मौके पर डिपो मैनेजर जगेश्वर यादव पिता तिहारू यादव (20] को पकड़ लिया। डिपो की तलाशी लेने पर पुलिस ने 60 टन कोयला जब्त किया।

जांच के दौरान मैनेजर जब्त कोयलों का दस्तावेज पेश नहीं कर पाया। इसी तरह हिर्री के डिघोरा स्थित मुरू रोड मुन्ना गुप्ता के कोल डिपो की भी जांच की गई। उसके डिपो से 40 टन अवैध कोयला जब्त किया गया।

पुलिस ने डिपो संचालक मुन्ना गुप्ता पिता महेंद्र गुप्ता (32] से दस्तावेज की मांग की गई। उसके पास भी कागजात नहीं होने पर कोयलों को चोरी के संदेह पर जब्त कर लिया गया। पुलिस ने आरोपी डिपो संचालक व मैनेजर के खिलाफ 41(1-4] 379 के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

दोनों डिपो सील

हिर्री टीआई पात्रे ने बताया कि पुलिस की जांच में डिपो में कोयले की अफरा-तफरी करते पाए जाने पर चोरी के संदेह पर कार्रवाई की गई है। जसवानी कोल डिपो के संचालक संतु जसवानी की तलाश की जा रही है। पुलिस ने दोनों डिपो को सील कर दिया है।

1
Back to top button