कलेक्टर ने ली समय-सीमा की बैठक अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

- मनोज मिश्रा

महामसुंद: कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने आज यहां जिला कार्यालय के सभाकक्ष में समय-सीमा की बैठक लेकर जिले के विभिन्न विभागों के अधिकारियों की बैठक लेकर उनके विभागों से संबंधित लंबित समय-सीमा के प्रकरणों की गहन समीक्षा की। बैठक के दौरान कलेक्टर ने कहा कि वनाधिकार पट्टों के संबंध में प्राप्त दावा-आपत्ति का निराकरण सभी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं वन विभाग के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर पूरी प्रक्रिया संपादित करें।

उन्होंने कहा कि सभी प्राप्त आवेदनों के प्रविष्टी पूर्ण कर ली जाए। अपात्रों के प्रकरणों का शत-प्रतिशत पुनः परीक्षण करें, इसके अलावा बाद में दिए गए आवेदनों को भी शामिल कर परीक्षण करें। उन्होंने कहा कि अस्वीकृत आवेदनों का भी परीक्षण करा लेवे और समय पर इसकी जानकारी उपलब्ध कराए।

इसके अलावा वनाधिकार अधिनियम अंतर्गत संबंधित विभाग के अधिकारियों को संयुक्त रूप से व्यक्तिगत, सामुदायिक वन अधिकार के पत्रों के क्रियान्वयन को लेकर पात्र एवं अपात्र पाए गए है, उनका कारण बताते हुए सत्यापन कर ऑनलाईन एन्ट्री कराने को भी कहा।

समय-सीमा की बैठक में उन्होंने कहा कि सभी विभागों के अधिकारी समय-सीमा के प्रकरणों का एवं विभिन्न आयोगों से प्राप्त पत्रों एवं उनकी शिकायतों का तत्काल निराकरण करें। उन्होंने लोक सेवा, विभिन्न आयोग एवं न्यायालीन के लंबित प्रकरणों को विशेष ध्यान देते हुए समय-सीमा के भीतर अनिवार्य रूप से निराकरण करने के निर्देश दिए। वर्तमान में गर्मी को देखते हुए जिले में पेयजल की आपूर्ति निरंतर बनी रहे,

इसके लिए कलेक्टर जैन ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग सहित नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी को विशेष रूप से निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि हैण्डपंप सही ढंग से रहे और उनसे पेयजल की आपूर्ति होती रहे। बैठक में कलेक्टर ने जैन ने जल संवर्धन, नदियों को प्रदूषण मुक्त करने की उपाय, खाद्य प्रसस्करण, लघु वनोपज सहित डीएमएफ के संबंध में भी जानकारी लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

उन्होंने पेयजल की सुविधा बढ़ाने के लिए दीर्घ कालीन कार्य योजना तैयार करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि ऐसे गांव जो पूर्व में बाढ़ से प्रभावित होते रहे है, उनकी पहले से सूची तैयार कर ले और उसके लिए आवश्यक व्यवस्था बना लेवे। उन्होंने राजस्व विभाग के अधिकारियों को उनके प्रकरणों के शीघ्र निपटारा करने के कड़े निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी शासकीय कार्यालयों में रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम की व्यवस्था कराए।

उन्होंने सुगम भारत अभियान के तहत रैप की जानकारी सभी विभागों द्वारा तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। बैठक में प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. आर.के. परदल ने बताया कि ’’गैर संचारी रोग रोकथाम एवं उपचार माह’’ 15 मई से 15 जून 2019 तक जन समुदाय को जागरूक करने, सही वक्त में जांच करने तथा पीड़ित मरीज को पर्याप्त उपचार उपलब्धता के लिए मनाया जाना है।

हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर में गैर संचारी रोग के तहत पापुलेशन बेस्ड स्क्रीनिंग का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें 30 वर्ष एवं 30 वर्ष से अधिक आयु के सभी व्यक्तियों (महिला एवं पुरूष) का मधुमेह जांच, उच्च रक्तचाप की जांच, महिलाओं में स्तन एवं गर्भाशय ग्रीवा कैंसर स्क्रीनिंग एवं पुरूषों तथा महिलाओं में मुंह का कैंसर का स्क्रीनिंग किया जाएगा। उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग तथा पंचायत विभाग से सहयोग एवं समन्वय का आग्रह किया है।

समय-सीमा की बैठक में कलेक्टर ने विद्युत, क्रेडा, कृषि, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, महिला एवं बाल विकास विभाग, स्वास्थ्य, पंचायत, खाद्य, शिक्षा सहित अन्य विभागों से संबंधित विभिन्न प्रकरणों की समीक्षा की। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज रघुवंशी, अपर कलेक्टर शरीफ मोहम्मद खान, आलोक पाण्डेय, संयुक्त कलेक्टर शिवकुमार तिवारी सहित जिला स्तरीय वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

Back to top button