लंबित राजस्व प्रकरणों पर कलेक्टर ने जताई नाराजगी

-कमजोर प्रदर्शन वाले राजस्व अधिकारियों की वेतन वृद्धि रोकने के दिए निर्देश

राजनांदगांव:

राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर भीम सिंह ने कमजोर प्रदर्शन वाले राजस्व अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर की एवं इनकी एक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राजस्व का कार्य सबसे प्राथमिकता का कार्य है और लोगों की बुनियादी समस्याओं से जुड़ा हुआ है। इसमें किसी भी तरह की ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

उन्होंने कहा कि जनसंवाद के माध्यम से शासन द्वारा आम जनता को दी जा रही बुनियादी सेवाओं पर समीक्षा की जा रही है। जहाँ पर राजस्व अमला बेहतर कार्य कर रहा है वहां से अच्छी रिपोर्ट आ रही है। जहाँ लापरवाही दिख रही है उसकी खराब रिपोर्ट प्रदर्शित हो रही है। जनसंवाद के फीडबैक की गंभीरता से समीक्षा हो रही है और शिकायत पाये जाने पर जांच के उपरांत कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने राजस्व अधिकारियों से कहा कि वे सुनिश्चित करें कि पटवारी मुख्यालय में रहें।

बी-वन, नक्शा-खसरा आदि निकटवर्ती सीएससी में मिलने के बाबत जानकारी हर पंचायत भवन में लिखवा दें। साथ ही निकटवर्ती सीएससी की जानकारी भी दे दें। अधिकारियों ने बताया कि यह सूचना ग्राम पंचायतों में लगाई जा रही है। इसके साथ ही कोटवारों के माध्यम से इस संबंध में मुनादी भी कराई गई है। उन्होंने सभी अधिकारियों की टूर डायरी भी देखी।

कलेक्टर ने कहा कि राजस्व में टूर डायरी का बहुत महत्व है। आप जितना ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण करेंगे, उतने ही विस्तार से इन क्षेत्रों की समस्याओं की जानकारी आपको होगी और आप त्वरित निराकरण के लिए कार्य कर सकेंगे। उन्होंने ऐसे अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर की जिन्होंने कम दौरे किये। कलेक्टर ने जाति प्रमाणपत्र के संबंध में समीक्षा भी की।

उन्होंने कहा कि छठवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों का शत-प्रतिशत जाति प्रमाणपत्र बनना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने उज्ज्वला योजना की रिफिलिंग की समीक्षा भी की। उन्होंने सभी एसडीएम से ग्रामीण क्षेत्रों में इसके लिए व्यापक जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए।

साथ ही यह भी सुनिश्चित करने कहा कि ग्राम पंचायतों में शेड्यूल के अनुसार उज्ज्वला योजना के सिलेंडरों की रिफिलिंग के लिए कैंप लग सकें। बैठक में अपर कलेक्टर ओंकार यदु, अनिल बाजपेयी, संयुक्त कलेक्टरएमडी तिगाला सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

-दिव्यांगों के लिए मतदान केंद्रों में व्हील चेयर-

राजस्व अधिकारियों को कलेक्टर ने आगामी विधानसभा के लिए चिन्हांकित मतदान केंद्रों में बिजली-पानी तथा शौचालय जैसी बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध कराने निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन मतदान केंद्रों में दिव्यांगजन वोटर लिस्ट में शामिल होंगे, उन्हें सुविधा प्रदान करने व्हील चेयर की सुविधा मतदान केंद्रों में दी जाएगी। कलेक्टर ने मतदाता जागरूकता अभियान भी बड़े पैमाने पर चलाने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

-इस बार सी विजिल और वीवीपैट होंगे खास-

इस बार भारत निर्वाचन आयोग ने मतदाताओं को सी विजिल और वीवीपैट जैसी सुविधाएँ प्रदान की है ताकि निर्वाचन प्रक्रिया की पारदर्शिता और भी बढ़ सके। सी विजिल एक मोबाइल एप है इसके माध्यम से आचार संहिता लगने के बाद किसी भी तरह की गड़बड़ी दिखने पर आम नागरिक भी अपनी शिकायत इस एप के माध्यम से निर्वाचन आयोग को भेज सकता है।

इसके साथ ही वीवीपैट (वोटर वेरीफिएबल पेपर आडिट ट्रेल) की सुविधा भी होगी। इसमें मतदाता को अपने मतदान की पर्ची दिख सकेगी। वीवीपैट के संबंध में लोगों की जागरूकता बढ़ाने शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष रूप से इसका प्रदर्शन किया जाएगा।

Tags
Back to top button