कलेक्टर ने विभिन्न ग्रामों एवं कमार बस्तियों का दौरा कर निर्माण कार्यों का किया निरीक्षण

राजशेखर नायर:

धमतरी: कलेक्टर रजत बंसल ने शनिवार 19 अक्टूबर को मगरलोड विकासखण्ड के मोहेरा क्षेत्र के विभिन्न ग्रामों एवं कमार बस्तियों का दौरा किया। साथ ही सड़क निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया।

कमार परिवारों से रू-ब-रू

उन्होंने कमार बस्ती देवगुड़िया में जाकर कमार परिवारों से रू-ब-रू हुए, साथ ही उन्हें बाड़ी कार्यक्रम के तहत अधिक से अधिक सब्जियों का उत्पादन कर आसपास के स्कूल, आश्रम-छात्रावासों में आपूर्ति कर आजीविका कार्यक्रम से जोड़ने की बात कही। साथ ही वृक्षारोपण की सलाह भी कमार परिवारों को दी। इसके अलावा उन्होंने नरवा कार्यक्रम के तहत क्षेत्र में वाॅटरशेड के किए जा रहे कार्यों का मौका मुआयना भी किया।

प्राथमिक शाला कमारपारा का भी अवलोकन

शनिवार को दोपहर कलेक्टर ने ग्राम मोहेरा में प्राथमिक शाला कमारपारा का भी अवलोकन किया, जहां पर बच्चों एवं शिक्षकों से सहज ढंग से बातचीत की। उन्होंने शिक्षकों को अध्यापन कार्य के अलावा गैर शिक्षकीय गतिविधियों पर भी फोकस कर बच्चों को नवाचारी शिक्षा प्रदान करने के निर्देश दिए।

भूजल स्तर में वृद्धि करने के लिए किए जा निर्माण कार्यों का भी अवलोकन

मेगा वाॅटर रिसोर्स प्रोजेक्ट के तहत भूजल स्तर में वृद्धि करने के लिए किए जा निर्माण कार्यों का भी उन्होंने अवलोकन किया। वाॅटरशेड कार्यक्रम के तहत मगरलोड ब्लाॅक के ग्राम मोहेरा, सिंगपुर, पठार, बिरझुली आदि ग्रामों में बीएलआरएफ (भारत रूरल लाइवलीहुड फाउण्डेशन) के तहत स्थानीय क्षेत्रों में जल स्तर बढ़ाने के लिए किए जा रहे प्रयासों की जानकारी स्थल निरीक्षण कर ली।

साथ ही इस पर और क्या बेहतर किया जा सकता है, इस पर प्रस्ताव तैयार करने के भी निर्देश संबंधित विभाग के अधिकारी को दिए। तत्पश्चात् उन्होंने मोहेरा मार्ग पर निरईनाला का अवलोकन तथा इसके तहत 7-8 स्थलों पर जाकर डीपीआर के अनुसार तैयार किए जा स्ट्रक्चर का निरीक्षण किया।

इसके बाद वे प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनाए जा रहे सिंगपुर-मोहेरा मार्ग का निरीक्षण किया। इस दौरान बताया गया कि कहीं-कहीं पर सड़क की चैड़ाई निर्धारित साढ़े फीट की जगह साढ़े 17 फीट का निर्माण किया गया है, जिसकी वजह से वन विभाग द्वारा आपत्ति की गई है।

इस पर कलेक्टर ने प्रशासकीय अनुमोदन के अनुसार ही निर्माण कार्य करने के निर्देश दिए। साथ ही पीएमजीएसवाय और वन विभाग के अधिकारियों को परस्पर समन्वय के साथ निर्माण कार्य पूर्ण के लिए कहा।

इसके अलावा कलेक्टर ने विभिन्न स्थलों का भी निरीक्षण कर निर्माणाधीन कार्यों को गुणवत्तापूर्वक एवं निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण करने के निर्देश संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिए।

Back to top button