छत्तीसगढ़

कलेक्ट्रेट को सोलर प्लांट से मिलेगी बिजली, 50 किलोवॉट का लगेगा प्लांट

हर दिन न्यूनतम 250 यूनिट बिजली का होगा उत्पादन,

राजनांदगांव : कलेक्ट्रेट भवन में सोलर प्लांट लगाया जाएगा, इस प्लांट से हर दिन न्यूनतम 250 यूनिट बिजली का उत्पादन हो सकेगा। 50 किलोवॉट के इस प्लांट से कलेक्ट्रेट की जरूरत भी पूरी हो सकेगी तथा अतिरिक्त बिजली पैदा होने पर इसे विद्युत विभाग को दिया जा सकेगा। कलेक्टर श्री भीम सिंह ने इस संबंध में निर्देश क्रेडा अधिकारी को दिए। कलेक्टर ने कहा कि सौर ऊर्जा के माध्यम से परंपरागत बिजली की बचत होगी, साथ ही बिजली बिल में लगने वाला व्यय भी कम होगा।

इसके साथ ही अतिरिक्त रूप से उत्पादन होने वाली बिजली भी विद्युत विभाग को प्रदाय की जा सकेगी। प्लांट की लागत 32 लाख रुपए होगी। फिलहाल जिला पंचायत, दिग्विजय कॉलेज एवं ऊर्जा पार्क, जिला चिकित्सालय, इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ में भी यह प्लांट लगाया गया है। यदि किसी कारण सोलर प्लांट से बिजली आपूर्ति बाधित होती है तो परंपरागत रूप से विद्युत आपूर्ति हो सकेगी। इस संबंध में जानकारी देते हुए क्रेडा के सहायक अभियंता श्री धु्रव ने बताया कि सोलर प्लांट लग जाने से परंपरागत बिजली की जरूरत समाप्त हो जाती है। बरसात में भी कम से कम 250 यूनिट बिजली का उत्पादन इस प्लांट से होगा।

उन्होंने बताया कि इसके साथ ही सोलर प्लांट में किसी तरह की तकनीकी दिक्कत आने पर परंपरागत बिजली का विकल्प मौजूद ही रहेगा। उन्होंने बताया कि एनर्जी पार्क तथा वहीं स्थित उनके आफिस का बिजली बिल डेढ़ लाख रुपए आता था। अब यहाँ सोलर प्लांट लग गया है जिससे बिजली की आपूर्ति इसी प्लांट से हो रही है। उन्होंने बताया कि सोलर प्लांट के मेंटेनेंस में बहुत कम समस्या आती है और एक बार लग जाने के बाद इससे अबाधित बिजली आपूर्ति होती है जिससे कलेक्ट्रेट जैसे बड़े परिसरों के लिए यह उपयोगी होता है।

मंत्रालय में 5 लाख यूनिट का होता है उत्पादन : धु्रव ने बताया कि नया रायपुर स्थित मंत्रालय में भी सोलर प्लांट लगा है। छुट्टियों के दिन यहाँ पाँच लाख यूनिट बिजली कंपनी को ट्रांसफर कर दी जाती है। इसमें सिन्क्रोनाइजेशन का सिस्टम होता है जिससे स्वत: ही सौर ऊर्जा से उत्पादित बिजली का इस्तेमाल न होने पर इसे विद्युत विभाग को भेजा जा सकता है।

तय समयावधि में करें निर्माण कार्य पूर : कलेक्टर ने मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल, दिग्विजय स्टेडियम सहित जिले में चल रहे महत्वपूर्ण निर्माण कार्यों की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा तय समय-सीमा पर यह कार्य पूरा करें। साथ ही उन्होंने जिले में बन रही महत्वपूर्ण सड़कों के निर्माण में प्रगति की समीक्षा भी की। उन्होंने तय समयावधि में पूरी गुणवत्ता के साथ इन कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिये।

advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.