कलेक्टर ने की मतदाताओं को मतदान के लिए अपील

मनीष शर्मा

मुंगेली।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डी. सिंह ने जिले के मतदाताओं के नाम अपील करते हुए आग्रह किया है कि देश के जिम्मेदार मतदाता होने के नाते लोकतंत्र में निर्वाचन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उनके मतदान से हमारा लोकतंत्र सुदृढ़ एवं समृद्ध होगा।

लोकतंत्र में एक-एक मत महत्वपूर्ण एवं निर्णायक होता है। अतः आगामी विधानसभा निर्वाचन 2018 हेतु 20 नवम्बर 2018 दिन मंगलवार को प्रातः 8 बजे से सायं 5 बजे के मध्य मतदान अवश्य करें एवं निर्वाचन में भागीदार बनें। उन्होने पूर्ण विश्वास व्यक्त किया है कि जिले के सभी मतदातागण मतदान में भाग लेकर मतदान प्रतिशत में अधिकाधिक वृद्धि करने में अपना अमूल्य सहयोग प्रदान करेंगे एवं जिले का सम्मान बढ़ायेंगे।

58 जोनल अधिकारी नियुक्त,2 संगवारी मतदान केंद्र भी स्थापित

विधानसभा निर्वाचन 2018 में मुंगेली जिले के 5 लाख 15 हजार 773 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इनमें विधानसभा लोरमी 26 के 1 लाख 97 हजार 352, मुंगेली विधानसभा 27 के 2 लाख 26 हजार 498 एवं विधानसभा बिल्हा आंशिक Ľमतदान केंद्र 118) के 91 हजार 923 मतदाता शामिल है। इसी तरह लोरमी विधानसभा में 1 लाख 790 पुरूष एवं 96 हजार 559 महिला मतदाता, मुंगेली विधानसभा में 1 लाख 15 हजार 894 पुरूष एवं 1 लाख 10 हजार 602 महिला मतदाता एवं बिल्हा विधानसभा 118 मतदान केंद्र में 46 हजार 951 पुरूष एवं 44 हजार 964 महिला मतदाता शामिल है।

जिला निर्वाचन कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार विधानसभा निर्वाचन सुव्यवस्थित शांतिपूर्ण संपन्न कराने के लिए विधानसभा लोरमी 26 के लिए 263 मतदान केंद्र, विधानसभा मुंगेली 27 अजा के लिए 280 एवं विधानसभा बिल्हा के लिए 118 मतदान केंद्र बनाये गये है।

जिसमें संगवारी मतदान केंद्र भी शामिल है। लोरमी विधानसभा क्षेत्र में 12 शहरी एवं 251 ग्रामीण मतदान केंद्र तथा मुंगेली विधानसभा में 26 शहरी एवं 254 ग्रामीण मतदान केंद्र शामिल है। इसी तरह जिले में 214 क्रिटिकल मतदान केंद्र चिन्हांकित किया गया है। जिसमें विधानसभा लोरमी में 97, विधानसभा मुंगेली में 83 एवं विधानसभा बिल्हा में 34 मतदान केंद्र शामिल है।

जिले में 10 आदर्श मतदान केंद्र बनाया गया है। जिसमें लोरमी विधानसभा के 4, मुंगेली विधानसभा के 4 एवं बिल्हा विधानसभा के 2 मतदान केंद्र शामिल है। सभी विधानसभा क्षेत्रों के लिए 129 रूट बनाया गया है। इसी तरह 58 जोनल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इनमें लोरमी विधानसभा के लिए 23, मुंगेली विधानसभा के लिए 25 एवं बिल्हा विधानसभा के लिए 10 जोनल अधिकारी बनाया गया है।

एक्जिट पोल आयोजित करने पर लगा प्रतिबंध

निर्वाचन आयोग द्वारा अधिसूचित अवधि तक लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 126 क के प्रावधानों के तहत एक्जिट पोल आयोजित करना और उसका परिणाम प्रकाशित तथा प्रसारित करना प्रतिबंधित किया गया है। उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 6 अक्टूबर को छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान, मिजोरम एवं तेलंगाना की विधानसभा निर्वाचन के लिए अधिसूचना जारी की गई थी, इसके तहत छत्तीसगढ़ में 20 नवंबर को 19 जिलों के 72 विधानसभा क्षेत्रों के लिए द्वितीय चरण में निर्वाचन की तिथि तय की गई है।

विधानसभा निर्वाचन के लिए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की 126 क की उपधारा के अधीन शक्तियों का प्रयोग करते हुए भारत निर्वाचन आयोग इस धारा की उपधारा के उपबंधों के दृष्टिगत रखते हुए 12 नवंबर को सुबह 7 बजे से 7 दिसंबर को शाम साढ़े पांच बजे के बीच की अवधि को ऐसी अवधि के रूप में अधिसूचित किया है।

आयोग द्वारा 6 अक्टूबर को जारी अधिसूचना के तहत छत्तीसगढ़ विधानसभा के वर्तमान साधारण निर्वाचनों के संबंध में किसी भी प्रकार के एक्जिट पोल का संचालन करने तथा प्रिंट, चलचित्र, टेलीविजन अथवा इलेक्ट्रानिक मीडिया द्वारा इसके परिणाम के प्रकाशन, प्रचार अथवा किसी भी अन्य तरीके से उसका प्रसार करने पर प्रतिबंध होगा।

1
Back to top button