छत्तीसगढ़

रायगढ़ा-थेरूबाली के बीच आवागमन शुरू

सैकड़ों कर्मचारी अब भी मौके पर तैनात, भारी ट्रेनों की आवाजाही पर अभी भी रोक
दस किमी की रफ्तार से होगा ब्रिज पर परिचालन

–अनुराग शुक्ला

जगदलपुर. रायगढ़ा रेल सेक्शन के ब्रिज क्रमांक 588 सिंगपुर और थिरूवाली रेल स्टेशन के मध्य रविवार को लगभग 11 बजे डाउन लाइन के बहने से रेल यातायात बाधित रहा। तीन दिन की कड़ी मशक्कत के बाद इस लाइन को एक बार फिर से शुरू करने में रेलवे के अमले ने सफलता हासिल की है।

बताया गया कि पानी के बहाव के चलते डाउन लाइन ब्रिज पूरी तरह उखड़ गया था और अपलाइन भी प्रभावित हुआ था। घटना के दूसरे दिन ही इको रेलवे के महाप्रबंधक उमेश सिंह व विशाखापटनम् रेल मण्डल के डीआरएम मुकुल शरण माथुर ने तत्काल स्पेशल ट्रेन के जरिए मौका मुआयना किया था। 156 मीटर के ऑयरन ब्रिज के बहने से इस मार्ग पर चलने वाली करीब डेढ़ दर्जन से अधिक ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया था। ढाई सौ मजदूरों और तकनीकि टीम के एक्सपर्ट व इंजीनियरों सहित प्रिसिंपल चीफ इंजीनियर व ब्रीज चीफ इंजीनियरों की मौजूदगी में इस ब्रीज पर काम जारी है।

बताया गया कि रेल मार्ग को बहाल करने के लिए इको महाप्रबंधक उमेश सिंह मौके पर ही डटे रहे। अपलाइन पर क्षतिग्रस्त ब्रिज को बुधवार की दोपहर दुरूस्त किया गया। यहां पर इंजन को महाप्रबंधक की मौजूदगी में चलाकर देखा गया। इकसे बाद वे रवाना हुए। अधिकारिक आदेश के अनुसार इस ब्रिज पर कॉशन आर्डर के तहत ट्रेनों का परिचालन दस किमी प्रति घंटे की रफ्तार से निर्धारित किया गया है। यह भी स्पष्ट किया गया है कि इस मार्ग पर चलने वाली डेढ़ दर्जन ट्रनों में भारी और कुछएक एक्सप्रेस ट्रेनों को फिलहाल इस ब्रिज से गुजरने की अनुमति नहीं दिया जा सकता है। इस मार्ग को बहाल करना इस लिए आवश्यक था क्योंकि कई ट्रेनों को कैंसल किया जा रहा था। अब आधा दर्जन ट्रेनों के परिचालन की अनुमति दी गई है साथ ही कुछ ट्रेनें रूट बदलर चलेंगी।

दुर्ग एक्सप्रेस, सम्लेश्वरी का नाता टूटा

रायगढ़ा रेल सेक्श्न के क्षतिग्रस्त पुल के सही किए जाने के बाद भी अब तक बस्तर की ओर आने व जाने वाली समलेश्वरी और दुर्ग-जगदलपुर एक्सप्रेस के परिचालन को हरी झण्उी नहीं मिली है। इस लिहाजे से फिलहाल सम्लेश्वरी और दुर्ग एक्सप्रेस का नाता बस्तर से टूटा रहेगा। बताया जा रहा है कि ब्रिज में काम जारी है। जल्द ही सभी टे्रनों का सुचारू संचालन किया जाएगा।

Back to top button