वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री ने कोविड महामारी से निपटने में बौद्धिक संपदा अधिकारों तथा व्‍यापार में उत्‍पन्‍न नई बाधाओं को खत्‍म करने का आह्वान किया

वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कोविड-19 महामारी के वैश्विक संघर्ष से निपटने में बौद्धिक संपदा अधिकारों तथा व्‍यापार में उत्‍पन्‍न नई बाधाओं को खत्‍म करने का आह्वान किया है। वे आज इटली में जी-20 व्‍यापार और निवेश मंत्रिस्‍तरीय बैठक को संबोधित कर रहे थे। श्री गोयल ने टीकों को लेकर भेदभाव या कोविड पासपोर्ट जैसी नई व्‍यापार बाधाओं को सुलझाने का भी आग्रह किया। उनका कहना था कि इससे लोगों को आने-जाने में परेशानी होती है तथा महत्‍वपूर्ण सेवाओं के लिए कर्मचारियों की आवाजाही में बाधा उत्‍पन्‍न होती है।

मछली पालन क्षेत्र में वार्ता के समान और संतुलित नतीजों की जरूरतों पर बल देते हुए श्री गोयल ने कहा कि दूरस्‍थ खुले सागरों में मछली पकड़ने के कार्य करने वाले देशों को इस कारोबार में सब्सिडी देना बंद कर देना चाहिए और धीरे-धीरे मछली पकड़ने की क्षमता को कम करना चाहिए। श्री गोयल ने कहा कि भारत उन कुछ देशों में शामिल है, जो पेरिस समझौते के अनुसार अपने संकल्‍प को पूरा करने की राह पर है। श्री गोयल ने विकसित देशों से प्रौद्योगिकी हस्‍तांतरण और जलवायु वित्‍तीय सहायता के संबंध में अपनी वचनबद्धताओं को पूरा करने का आग्रह किया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button