कमिश्नर ने वनमण्डलाधिकारियों कों लिखा पत्र ,जानें क्या है वजह

वन क्षेत्रों में जल संरक्षण के ढाचों को बनाए बेहतर: कमिश्नर

रायपुर: रायपुर संभागायुक्त जी.आर. चुरेन्द्र ने वन क्षेत्रों विशेषकर अभ्यारण क्षेत्रों में वन्य प्राणियों के लिए पर्याप्त मात्रा में जल की उपलब्धता सुनिश्चित हो इसके लिए मौजूद जल संरचनाओं को सुदृढ़ करने के लिए संभाग के सभी वनमण्डलाधिकारियों को पत्र लिखा है। संभागायुक्त श्री चुरेन्द्र ने कहा है कि नवापारा अभ्यारण क्षेत्र सहित व संभाग के अन्य वन क्षेत्रों के भ्रमण में पाया गया है कि अभ्यारण क्षेत्रों एवं वन क्षेत्रों में जल संरक्षण ढांचों में पानी नहीं होने वन्य प्राणी प्रभावित हो रहे है। इस कारण से अभ्यारण क्षेत्रों में व वन क्षेत्रों में वन्य प्राणी के आवश्यकता के अनुसार तालाब एवं जल संरक्षण ढांचों का नये निर्माण के साथ पुराने जल संरक्षण ढांचों को बेहतर बनाने की आवश्यकता है। इसके लिए विभिन्न मदों का अभिसरण करते हुए अभियान चलाकर इस दिशा में कार्य किया जाए।

वन खंडों, वन क्षेत्रों एवं अभ्यारण क्षेत्रों में पूर्व में निर्मित डबरी, तालाब, टारबांध आदि जल संरक्षण ढांचों के सुदृढ़ीकरण, गहरीकरण एवं विस्तार का कार्य विशेष प्राथमिकता से किया जाए। साथ ही इन जल संरक्षण ढांचों में क्षमता के अनुरूप जल भराव हो, इसके लिए कैचमेट एरिया के जल को इन जल ढांचों में भरने उपर में नहर नाली आउटलेट इनलेट के साथ बनाई जाए, जिससे की क्षमता के अनुरूप पानी भरा जा सके। जल संरक्षण ढांचों के निर्माण तथा पूर्व में निर्मित जल संरक्षण ढांचों का सुदृढ़ीकरण, गहरीकरण एवं उसके कैपमेंट एरिया अनुसार विस्तार के साथ उसमें जल भरने नहर नाली का आउटलेट, इनलेट के साथ निर्माण कार्य जिला कलेक्टर एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के समन्वय से विशेष कार्य योजना तैयार की जाए तथा कार्ययोजना की प्रति प्रेषित करें ताकि उस पर अमल हेतु आवश्यक पहल की जा सके।

Back to top button