कमिश्नर, पुलिस महानिरीक्षक ने की कोरोना संबंधी की गई तैयारियों की समीक्षा

मनीष शर्मा, 8085657778:
मुंगेली। बिलासपुर राजस्व संभाग के कमिश्नर बी.एल बंजारे एवं आई जी दीपांशु काबरा ने आज यहां स्थानीय विश्राम भवन में कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर नोवेल कोरोना वायरस से निपटने के लिए की गई तैयारियों, और लाॅकडाउन की अवधि में निर्धन, बेघर, निराश्रित और मजदूरों के दो वक्त की भोजन और राशन की उपलब्धता की समीक्षा की ।

बैठक में कमिश्नर श्री बंजारे ने कहा कि नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमण से निपटना एक चुनौती पूर्ण कार्य है। इस चुनौती को स्वीकार कर मुश्तैदी से कार्य करना होगा। इस अवसर पर उन्होने निर्धन, बेघर, निराश्रित और मजदूरों को दो वक्त की भोजन और राशन उपलब्ध कराने के निर्देश दिये । बैठक में उन्होने मुंगेली जिले से रोजी-रोटी के लिए अन्य राज्य जाने वाले लोगों के बारे में भी जानकारी प्राप्त की और अन्य राज्यों के जिला प्रशासन के अधिकारियों से संपर्क स्थापित कर उन्हे भोजन, दवाई, राशन आदि उपलब्ध कराने के निर्देश दिये ।

इसी क्रम में उन्होने विदेशों से आने वाले लोगों और होम आईसोलेशन की स्थापना के संबंध में जानकारी प्राप्त की । बैठक में उन्होने आने वाले समय के लिए आवश्यक सुविधा के साथ जिले में 100 बिस्तर वाले होम आईसोलेशन की स्थापना के निर्देश दिये ।

बैठक में नोवेल कोरोना वायरस की संक्रमण से बचाव के लिए आई जी. श्री दीपांशु काबरा ने कहा कि जो व्यक्ति जहां है उन्हे वही रहने के लिए समझाईश दी जाए। बेवजह घर से निकलने और घुमने वालों, सार्वजनिक स्थानों पर मिटिंग करने वालो के प्रति सख्ती बरतने के निर्देश दिये । बैठक में उन्होने जिले के सीमाओ पर बनाये गये चेक पोस्टों की जानकारी प्राप्त की ।

उन्होने सीमावर्ती राज्यों तथा अन्य प्रदेशोें से आने वाले लोगों पर सत्त निगाह रखने के निर्देश दिये। बैठक में उन्होने आवश्यक वस्तुओं की होम डिलव्हरी और स्वास्थ्य विभाग द्वारा होम आईसोलेशन केंद्रो में आयुष चिकित्सा अधिकारियों, लेबटेक्निशियन और फार्मासिस्टों की तैनाती के संबंध में भी जानकारी प्राप्त की और संबंधितों को आवश्यक निर्देश दिये।

बैठक में कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने बताया कि नोवेल कोरोना (कोविड-19) वायरस की संक्रमण के बचाव एवं नियंत्रण के लिए अन्य राज्यों से आये हुए खांसी, बुखार एवं सांस लेने में तकलीफ से पीड़ित व्यक्तियोे को होम आईसोलेशन/होम क्वारेंटाईन रखने के लिए आठ संस्थाओं को क्वारेंटाईन केंद्र बनाया गया है। इनमे जिला मुख्यालय मुंगेली स्थित 100 बिस्तर मातृ एवं शिशु चिकित्सालय और नवीन बालिका छात्रावास रामगढ़ शामिल है।

लाॅकडाउन के दौरान मुंगेली जिले मे आने वाले एक हजार पांच सौ लोगों का होम आईसोलेशन कराया गया है और उनके नियमित रूप से चिकित्सकीय उपचार कराया जा रहा है। उन्होने बताया कि मुंगेली जिले से रोजी रोटी के लिए अन्य प्रदेश जाने वाले मजदूरों और श्रमिकों की लाॅकडाउन में फसे होने की लगातार जानकारी प्राप्त की जा रही है। ऐसे 1574 मजदूरों को चिन्हाकित कर डेडिकेटेड सेल के माध्यम से एक लाख रूपये का राशि उनके बैंक खातों में अब तक ट्रांसफर किया गया है।

उन्होने बताया कि जिले में निराश्रित, बेघर , घुमंतू, असहाय, निर्धन लोगों को चिहाकिंत किया गया है। ऐसे व्यक्तियों को सामाजिक संस्थाओं, स्वयं सेवी संस्थाओं और जिला प्रशासन द्वारा को नियमित रूप से भोजन कराया जा रहा है। घर से निकलने मे असमर्थ लोगों को राशन और दाल दिया जा रहा है।

उन्होने बताया कि नोवेल कोराना (कोविड-19) के वैश्विक संक्रमण को देखते हुए जिले के कई सामाजिक संगठनों और समाज सेविओं द्वारा मुख्यमंत्री सहायता कोष एवं जिला सहायता कोष के लिए मुक्त हस्त से सहायता दी जा रही है । इसी कड़ी मे सामाजिक संगठनों द्वारा जिले मे अब तक दस लाख रूपये की राशि का चेेक प्रदान किया गया है।

इस अवसर पर जिले के पुलिस अधीक्षक डी श्रवण, वन मंडला अधिकारी कुमार निशांत, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमति नुपूर राशि पन्ना, अपर कलेक्टर राजेश नशीने, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कमलेश खैरावर, जिला कार्यक्रम अधिकारी उत्कर्ष तिवारी, मुंगेली अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व चित्रकांत चाली ठाकुर, नगर पालिका मुंगेली के मुख्य नगर पालिका अधिकारी साहित पुलिस प्रशासन के अधिकारीगण उपस्थित थें।

Tags
Back to top button