के कंपनी के विरुद्ध धोखाधड़ी कर 68 लाख 21 हजार 812 रुपये हड़पने की शिकायत

उपकरण लगाने के नाम पर की गई धोखाधड़ी

महासमुंद: बैग्लुरू की एक कंपनी द्वारा धोखाधड़ी कर लाखों रुपया हड़पने का मामल सामने आया है। मामला महासमुंद थाना में धारा 34-IPC, 420-IPC के तहत आरोपियों के खिलाफ दर्ज हुआ है।

जानकारी के अनुसार यह धोखाधड़ी मेसर्स शिवालिक पावर एण्ड स्टील प्रा.लि कंपनी के एक प्लांट जो कि महासमुंद जिला के ग्राम बेलसोडा में स्थित है वहां उपकरण लगाने के नाम पर की गई है. जिसकी शिकायत कंपनी के एक्जिक्यूटिव आफिसर विनय कुमार अग्रवाल द्वारा की गई है.

विनय ने पुलिस को बताया है कि उसकी कंपनी के संयंत्र में मशीनरी के आधुनिकीकरण करवाने के लिए मेसर्स टाइटन इंजिनियरर्स बैग्लुरू साउथ कर्नाटक के प्रोपराइटर डी0 एल0 प्रसाद एवं इंजिनियर चंद्र शेखर टाइटन ने उपकरण डिजाइन इंजिनियरिंग विनिर्माण आपूर्ति का सौदा करके उनकी कंपनी से वर्ष 2017, 2018 में पंजाब नेशनल बैंक ब्रांच रायपुर के RTGS के माध्यम से 68 लाख 21 हजार 812 रुपये प्राप्त किया था. लेकिन उसके बाद आज तक उनकी कंपनी में उपकरणों की आपूर्ति व स्थापना बैग्लुरू के कंपनी द्वारा नहीं की गई.

प्रार्थी की शिकायत पर आरोपीगण मेसर्स टाइटन इंजिनियर्स पता -201, योगासान्द्रा इंडिस्टीयल एरिया जिगानी लिंक रोड के प्रोपराइटर डी0 एल0 प्रसाद, इंजिनियर चंद्र शेखर टाइटन इंजिनियर्स के विरूध्द अपराध धारा 420, 34 IPC का घटित होना पाये जाने से अपराध पंजीबध्द कर विवेचना में लिया गया।

420 भा.द.वि. के अन्तर्गत प्रथम सूचना शिकायत पत्र

शिकायतकर्ता के साथ आरोपीगण द्वारा छल, कपट, घोखाधडी कर रकम हडपने के सम्बंध मे 420 भा.द.वि. के अन्तर्गत प्रथम सूचना शिकायत पत्र।

शिकायतकर्ता ने बताया है कि तकनिकी विवरण एवं परियोजनाओ को पूरा करने के लिए पर्चेस आर्डर जारी किया जिसमें सैड कुलर उपकरण के साथ सैड कूलर जंक्शन, सैड मिक्चर, पलीगनल स्क्रीन सम्निलित है. लेकिन पर्चेस आर्डर को स्वीकार करने के बाद भी आरोपीगण द्वारा कभी समय सीमा के भीतर उपकरण के आपूर्ति का जो वादा किया था वह नहीं किया गया.

शिकायकर्ता ने बताया है कि पर्चेस आर्डर के अनुसार सैड प्लांट को फरवरी 2018 प्राप्त से कर मार्च 2018 से चालू होनी थी लेकिन परियोजना को लागू करने और उसको निष्पादित करने मे विलंब किया जा रहा था. शिकायकर्ता द्वारा बार-बार फालोअप करने के बावजुद भी निष्पादन के लिए नियमित बैठको की प्रक्रिया प्रस्तावित कर उसमे निर्धारित कार्यक्रम का अभी पालन नहीं किया गया.

समय सारणी स्थगित कर शिकायतकर्ता को आश्वासन

हर बैठक में आरोपीगण द्वारा समय सारणी स्थगित कर शिकायतकर्ता को आश्वासन दिलाया गया.

जिसके बाद आरोपीगण डिलीवरी जून 2019 के लिये प्रतिबद्ध थे. जिसके चलते शिकायतकर्ता की कंपनी ने मोल्डिग लाईन की स्थापना और कमीशन के कार्य के लिये अपने संयंत्र में मौजुदा कार्यात्मक ए.आर.पी. ए. 600 मोल्डिग लाईन का उत्पादन बंद कर दिया था और आगे सिविल कार्य के निष्पादन के लिये पूरे मशीन और उपकरणों को नष्ट कर दिया.

लेकिन इसके बाद भी आरोपीगण द्वारा उपकरणो की आपूर्ति नहीं की गई जिससे कम्पनी का उत्पादन बंद हो गया. जिसके परिणाम स्वरुप शिकायतकर्ता कम्पनी को जून 2019 के बाद प्रतिमाह 28 लाख रुपयो का नुकसान प्रतिमाह हो रहा है.

Back to top button