छत्तीसगढ़

निर्माणाधीन स्काईवॉक और एक्सप्रेस-वे के फ्लाईओव्हरों को जून माह तक पूर्ण करें : मूणत

रायपुर : लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में राजधानी रायपुर में निर्माणाधीन स्काई-वॉक और रायपुर शहर में फाफाडीह-तेलीबांधा-नया रायपुर स्थित छोटी रेल लाइन की भूमि पर फोनलेन एक्सप्रेस-वे की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने इनमें विशेष गति देते हुए स्काईवॉक के निर्माण कार्य और एक्सप्रेस-वे में निर्माणाधीन फ्लाईओव्हरों को जून माह तक हर हालत में पूर्ण करने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया।

उल्लेखनीय है कि स्काईवाक का निर्माण राजधानी रायपुर के शास्त्री चौक में सड़कों के ऊपर फुट ओव्हर ब्रिज के रूप में लगभग 49 करोड़ रूपए की लागत से किया जा रहा है। इसकी लम्बाई एक हजार 400 मीटर लम्बाई है। मूणत ने इसकी सतत निगरानी के लिए लोक निर्माण विभाग (सेतु) के मुख्य अभियंता और अधीक्षण अभियंता को जिम्मेदारी भी सौंपी है।

राजधानी रायपुर में निर्माणाधीन स्काईवॉक में पैदल चलने वाले लोगों की सुविधा के लिए दो लिफ्ट, आठ एस्केलेटर और दस सीढ़ियां बनाई जा रही है। इसमें डी.के.एस. अस्पताल के समीप और अम्बेडकर अस्पताल में सड़क की ओर बाउण्ड्रीवाल के समीप लिफ्ट बनाए जाएंगे। इसी तरह तहसील कार्यालय की बाउण्ड्रीवाल के समीप, शहीद स्मारक के समीप और मल्टी लेवल पार्किंग पर एस्केलेटर तथा सीढ़ी का निर्माण होगा।

शास्त्री जी की मूर्ति के समीप ‘रेरा‘ कार्यालय के सामने सीढ़ी और केन्द्रीय जेल की ओर बाउण्ड्रीवाल के समीप केवल सीढ़ी बनाए जाएंगे। इसके अलावा कलेक्टोरेट गार्डन में घड़ी चौक की ओर, कलेक्टोरेट गेट के समीप, जिला न्यायालय में सड़क की ओर, डॉ. अम्बेडकर अस्पताल चौक पर बस स्टैण्ड की ओर और अम्बेडकर अस्पताल में सड़क की ओर बाउण्ड्रीवाल के समीप एस्केलेटर तथा सीढ़ी का निर्माण होगा।

मूणत ने बैठक में एक्सप्रेस-वे में सड़क के साथ-साथ नाली तथा डिवाईडर आदि के कार्यों में गुणवत्ता और निर्धारित मापदण्डों का पालन सुनिश्चित करने के लिए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए। उन्होंने निर्माणाधीन एक्सप्रेस-वे के दोनों किनारे पर स्थित शासकीय जमीन का सर्वेक्षण कर जानकारी शीघ्र उपलब्ध कराने के लिए भी निर्देशित किया। इसके तहत उपलब्ध जमीन पर प्रतीक्षालय, फुटपाथ तथा पार्किंग आदि के लिए कार्ययोजना बनाने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए। मूणत ने एक्सप्रेस-वे के निर्माण को विशेष गति देने के लिए हर सप्ताह शनिवार को संबंधित अधिकारियों को बैठक लेकर समीक्षा करने भी निर्देशित किया।

ज्ञातव्य है कि एक्सप्रेस-वे की लंबाई लगभग 12 किलोमीटर है। इसका निर्माण 258 करोड़ 11 लाख रूपए की राशि से किया जा रहा है। फाफाडीह-नया रायपुर एक्सप्रेस-वे के निर्माण में चार फ्लाई ओव्हर, एक एलिवेटेड कॉरिडोर, एक अण्डर पास और एक एल.व्ही.यू.पी. (लाईट व्हीकल अंडर पास) का निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा आठ नग छोटे पुल तथा 12 नग पुलिया का निर्माण किया जा रहा है।

वर्तमान में लगभग सात किलोमीटर सड़क का अर्थवर्क, डब्ल्यू.एम.एम., सबग्रेड तथा जी.एस.बी. का कार्य और तीन नग फ्लाई ओव्हर, एक नग एलिवेटेड कॉरिडोर का कार्य प्रगति पर है। एक्सप्रेस-वे के सात नग छोटे पुल और चार नग पुलिया का निर्माण पूर्ण कर लिया गया है। इनमें फाफाडीह में 980 मीटर, पण्डरी में एक हजार 140 मीटर, शंकरनगर में एक हजार 220 मीटर और देवेन्द्र नगर जक्शन पर फ्लाई ओव्हर का निर्माण किया जा रहा है।

इसके अलावा अवंति विहार-तेलीबांधा मार्ग पर चार हजार 780 मीटर एलिवेटेड कॉरिडोर और गुढ़ियारी अण्डर पास तथा अमलीडीह में एल.व्ही.यू.पी. का निर्माण किया जा रहा है। बैठक में लोक निर्माण विभाग के सचिव सुबोध कुमार सिंह, विशेष कर्त्तव्यस्थ अधिकारी अनिल राय और प्रमुख अभियंता डी.के. प्रधान तथा संबंधित विभागीय अधिकारी भी उपस्थित थे।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.