नीरज पब्लिक स्कूल प्रांगण में 7 दिवसीय रोलर स्केटिंग समर कैंप का समापन

समारोह में प्रशिक्षण प्राप्त बच्चों को प्रमाण पत्र तथा मेडल प्रदान

राजनांदगांव: छत्तीसगढ़ रोलर स्केटिंग एसोसिएशन द्वारा आयोजित 7 दिवसीय रोलर स्केटिंग समर कैंप का समापन समारोह नीरज पब्लिक स्कूल प्रांगण में आयोजित किया गया। इस समारोह के मुख्य अतिथि एसोसिएशन के प्रदेश सचिव किशोर भंडारी तथा रोलर स्केटिंग के प्रादेशिक मुख्य प्रशिक्षक दलजीत सिंह थिन थे। समारोह में प्रशिक्षण प्राप्त बच्चों को प्रमाण पत्र तथा मेडल प्रदान किये गये वहीं राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा सिद्ध करने वाले प्रदेश के रोलर स्केटर्स को भी प्रमाण पत्र तथा मेडल से सम्मानित किया गया।

शाला सचिव अनिल ठक्कर व प्राचार्य भारती गौते तथा ने अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ से किया। किशोर भंडारी ने अपने उद्बोधन में एनपीएस की इस पहल का स्वागत करते हुए कहा कि प्रदेश में सर्वप्रथम किसी शाला ने रोलर स्केटिंंग के प्रति लगाव दिखाते हुए यह उल्लेखनिय पहल की है।

उन्होंने बताया कि रोलर स्केटिंग की अपार संभावनाएं हैं और इसी के मद्दे नजर स्कूली शिक्षा में भी इसे शामिल किया गया है तथा परीक्षा में इसके लिए अतिरिक्त अंकों का प्रावधान रखा गया है। शाला सचिव अनिल ठक्कर ने बताया कि एनपीएस में आगामी सत्र में स्केटिंग रिंक बनाने तथा स्केटिंग की नियमित कक्षायें आरंभ करने का प्रावधान है। जिसका लाभ न केवल शाला के छात्र उठा सकेंगे बल्कि जिले की सभी शालाओंं को इसका लाभ मिलेगा।

रोलर स्केटिंग ओलंपिक्स में भी शामिल

भंडारी ने बताया कि रोलर स्केटिंग को ओलंपिक्स में भी शामिल किया गया है तथा इसकी एशियन तथा वल्र्ड चैंपियनशिप भी आयोजित की जाती है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में एक हजार स्कूली बच्चे वर्तमान में रोलर स्केटिंग का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि दलजीत सिंह थिन ने सन् 1985 में रोलर स्केटिंग के जरिये भिलाई से भोपाल तक 750 किमी की दूरी तय की थी। और तात्कालीन मुख्यमंत्री मोतीलाल वोरा ने उनका भोपाल में स्वागत किया था। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 22 वर्षीय अमितेश मिश्रा ने ओलंपिक्स में रोलर स्केटिंग में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व किया है।

एसोसिएशन द्वारा आयोजित समर कैंप में युगांतर, डीपीएस, एनबीआईएस तथा नीरज पब्लिक स्कूल के 51 बच्चों ने इंटरनेशनल स्केटर अनुराग भंडारी तथा अनिन्दय जोशी के कुशल मार्गदर्शन में रोलर स्केटिंग की बारीकियां सीखीं। 3 वर्ष के बच्चों से लेकर 22 वर्ष तक के युवाओं ने इस समर कैंप का लाभ उठाया।

अनुराग भंडारी ने बताया कि दुर्ग, राजनांदगांव, रायगढ़, बिलासपुर, कोरबा, बस्तर तथा महासमूंद जिलों में एसोसिएशन की विभिन्न शाखाओं में प्रशिक्षण का कार्य किया जा रहा है और यह खेल विधा तेजी से प्रदेश में अपनी जगह बना रही है।

Back to top button