एनएसयूआई के सहदेव समरथ की माओवादियों द्वारा हत्या की कांग्रेस ने कड़ी निंदा की

एनएसयूआई के सहदेव समरथ की माओवादियों द्वारा हत्या की कांग्रेस ने कड़ी निंदा की

रायपुर : बीजापुर के भैरमगढ़ कोस्टा पारा में रहने वाले एनएसयूआई के सहदेव समरथ पर पुलिस मुखबिरी का झूठा आरोप लगाकर माओवादियों द्वारा हत्या किए जाने की कांग्रेस ने कड़ी निंदा की है । सहदेव समरथ की माओवादियों द्वारा हत्या किए जाने पर प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए इसे माओवादियों की कायराना हरकत करार दिया है ।

झीरम हमले की छठी बरसी के अवसर पर इस घटना के कार्य किए जाने पर सवालिया निशान खड़े करते हुए कांग्रेस ने राज्य सरकार से इस मामले की जांच की मांग की है सहदेव समरथ एक छात्र नेता था और माओवादी क्षेत्र गुड़साकल का निवासी था।

विधानसभा चुनाव में सहदेव समरथ ने अपने गांव और आसपास के इलाके में कांग्रेस का जमकर प्रचार किया था और उस क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार को बड़ी लीड प्राप्त हुई थी विधानसभा चुनाव के समय से ही भाजपा के पूर्व मंत्री महेश गागड़ा के समर्थकों के निशाने पर सहदेव समरथ था

जब सहदेव समरथ को जानकारी मिली कि उसके ऊपर इस तरीके से निशाना साधा जा रहा है तो वह अपना गांव गुड़साकल छोड़कर भैरमगढ़ के कोस्टा पारा में रहने लगा था और ऑटो चला कर अपनी रोजी-रोटी की व्यवस्था करता था सहदेव समरथ का किसी भी प्रकार की मुखबिरी या ऐसी किसी भी गतिविधि से कोई लेना देना नहीं था

Back to top button