छत्तीसगढ़बड़ी खबरराजनीति

ट्विटर पर गाली गलौच मामले में कांग्रेस ने की जांच की मांग

शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि अपेक्षा तो यह थी कि जो असंयत असंयमित और गाली-गलौज की भाषा की प्रयोग की घटना हुयी उस पर भाजपा रोक लगाती

ट्विटर पर गाली गलौच मामले में कांग्रेस ने की जांच की मांग

रायपुर : भाजपा पर अपने राजनैतिक विरोधियों के साथ सोशल मीडिया में भद्दी भाषा अश्लील बाते और गाली-गलौज का आरोप लगाते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि अपेक्षा तो यह थी कि जो असंयत असंयमित और गाली-गलौज की भाषा की प्रयोग की घटना हुयी उस पर भाजपा रोक लगाती।

खेद व्यक्त करने के बजाय भाजपा प्रवक्ता एवं भाठापारा विधायक शिवरतन शर्मा द्वारा ट्वीट करके उसे सही साबित करने की कोशिश की गयी है। यह प्रदेश भाजपा की सांठगांठ और सरंक्षण का इसी गाली-गलौज का जीताजागता सबूत है।

जिस आईडी से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के ट्वीट पर गालीगलौज की जा रही है, उसे केंद्रीय रेल राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार पीयूष गोयल के कार्यालय से फॉलो किया जाता है। यह भाजपा की केन्द्र सरकार के एक मंत्री के कार्यालय से भी इस गाली-गलौज करने वाले आईडी को संरक्षण का जीताजागता सबूत है। क्या यही भाजपा के केन्द्रीय और राज्य नेतृत्व का चाल-चरित्र और चेहरा है?

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने मांग की है कि जांच करवायी जाये कि क्या केन्द्रीय मंत्री के कार्यालय और मुख्यमंत्री निवास की इन हरकतों में क्या भूमिका है? इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण और कुछ नहीं हो सकता है।

राजनीति में ऐसी अशोभनीय भाषा एवं गाली गलौज स्वीकार्य नहीं है। दरअसल भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री रमन सिंह का असलियत खोल कर रख दी।

रमन सिंह के अहंकार को बेनकाब कर दिया है, इससे रमन समर्थक बौखला गये है और गाली गलौज पर उतर आयी है।

सोशल मीडिया में रमन समर्थकों की भाषा पर कड़ी आपत्ति व्यक्त करते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि इन ट्वीट की भाषा से स्पष्ट है कि रमन खेमे ने अपना संतुलन खो दिया है। क्या रमन समर्थकों की यही शुचिता और नैतिकता है.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.