Warning: mysqli_real_connect(): Headers and client library minor version mismatch. Headers:50562 Library:100138 in /home/u485839659/domains/clipper28.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1612
खरखरा जलाशय का पानी राजनांदगांव में देने पर भड़के कांग्रेसी उग्र आंदोलन

खरखरा जलाशय का पानी राजनांदगांव में देने पर भड़के कांग्रेसी उग्र आंदोलन

मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र पानी सप्लाई से बढ़ा लोगों का आक्रोश

जागेश्वर साहू
बालोद। किसानों को फसल बीमा देने व खरखरा जलाशय का पानी मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के विधानसभा क्षेत्र राजनांदगांव में देने के विरोध में व किसानों की विभिन्न समस्याओं को लेकर जिला काग्रेस कमेटी द्वारा रविवार को डौण्डी लोहारा विकासखंड के ग्राम जेवरतला के सड़क में बैठकर धरना प्रदर्शन कर चक्काजाम किया गया। इस दौरान जेवरतला मार्ग के दोनों ओर वाहनों की लंबी लाइन लग गई। जिसमें लोगों को आने-जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ा।

बता दें कि केन्द्र सरकार की अमृत योजना के तहत बालोद जिले के जीवन दायिनी खरखरा बांध से राजनांदगांव शहर को पेयजल के लिए पानी देने की योजना की शुरुआत हो चुकी है। इस योजना से बालोद जिले के किसानों व आमजनों में नाराजगी दिनों दिन बढ़ती जा रही है। एक ओर जहां सरकार की इस योजना से किसानों में काफी रोष व्याप्त है तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेसियों ने भी इस योजना के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अभिषेक शुक्ला ने कहा कि अमृत योजना के तहत खरखरा नगर निगम राजनांदगांव को पानी उपलब्ध कराने के लिए पाइप लाइन बिछाई जा रही है। वर्तमान में बालोद जिले के डौण्डी लोहारा एवं गुण्डरदेही क्षेत्र के किसानों एवं आम जनता को सिंचाई, निस्तारी व पेयजल के लिए पर्याप्त पानी की व्यवस्था खरखरा जलाशय से नहीं हो पा रही है। ऐसे में नगर निगम राजनांदगांव को पानी देना स्थानीय किसानों व आम जनता के हितों के साथ छल है।

खरखरा जलाशय से नगर निगम राजनांदगांव में पानी ले जाने के लिए पाइप लाइन बिछाने का काम अनवरत जारी है। इससे पहले इस योजना को बंद करने के लिए शासन प्रशासन को अनेक बार मांग कर चुके हैं परंतु आज पर्यंत तक सार्थक पहल नहीं की गई इस दौरान बड़ी संख्या में जिले के किसान, कांग्रेसियों के साथ मिलकर उग्र आंदोलन किया। ।

डोंडी लोहारा विधायक अनिला भेड़िया ने कहा कि डौण्डीलोहारा व गुण्डरदेही क्षेत्र के किसानों के लिए दुर्भाग्य जनक है कि क्षेत्र में स्थित खरखरा जलाशय का पानी खेतों में सिंचाई के लिए उपयोग नहीं हो पाने के कारण उनके फसल पानी के अभाव में मर जाती हैं। जब सरकार इस बचे हुई पानी का उपयोग दूरस्थ शहरों में पेयजल के लिए कर सकती है तो समीपस्थ गांवों में पेयजल की सुविधा मुहैया क्यों नहीं कराती? जितनी आवश्यकता शहर के लोगों को पानी की है उतनी आवश्यकता ग्रामीण जनों को भी तो है।

उन्होंने कहा कि गर्मी के दिनों में कई बार पेयजल की समस्या के निराकरण के लिए स्थानीय ग्रामीण मांग भी कर चुके हैं पर अभी भी समस्या बनी हुई है। इस बार तो अल्प वर्षा के चलते जलाशयों में भी पानी की कमी है साथ ही जल स्तर भी नीचे चली गई है।

वहीं जिलाध्यक्ष शुक्ला ने कहा कि पहले डौण्डी लोहारा एवं गुंडरदेही क्षेत्र के किसानों को सिंचाई, निस्तारी एवं पेयजल के लिए पर्याप्त पानी मिले। राजनांदगांव मुख्यमंत्री का क्षेत्र है, इसलिए खरखरा जलाशय से राजनांदगाँव पानी ले जाने का षड्यंत्र किया जा रहा है। मुख्यमंत्री राजनांदगाँव को पानी देने अपने जिले के जलाशय से ही व्यवस्था करे। यहां के किसानों का हक ना छीने।

new jindal advt tree advt
Back to top button