गोवा में कांग्रेस ने पेश किया सरकार बनाने का दावा

गवर्नर नहीं मिले तो राजभवन में छोड़ी चिट्ठी

गोवा। मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की तबीयत खराब होने के बाद गोवा में कांग्रेस ने सरकार बनाने को लेकर जद्दोजहद शुरू कर दी है।

इसी सिलसिले में सोमवार को कांग्रेस के विधायक राज्यपाल से मिलने पहुंचे, लेकिन उनसे मुलाकात नहीं हो सकी।

इसके बाद कांग्रेस नेता राजभवन में एक पत्र छोड़कर चले आए जिसमें उन्होंने राज्यपाल से सरकार बनाने के लिए मौका देने की मांग की है।

गोवा में कांग्रेस के 16 विधायक हैं। सरकार बनाने के लिए मौका मांगने की खातिर इनमें से 14 विधायक राज्यपाल से मिलने पहुंचे थे, लेकिन किसी वजह से उनसे मुलाकात मुमकिन नहीं हो सकी।

गोवा कांग्रेस के प्रमुख चंद्रकांत कावलेकर ने कहा, हमने राज्यपाल को दो ज्ञापन सौंपे हैं और उनसे अनुरोध किया है कि 18 महीने के भीतर ही चुनाव से गुजरने की स्थिति फिर पैदा नहीं होनी चाहिए।

जनता ने हमें पांच साल के लिए चुना है। अगर मौजूदा सरकार कार्य करने में सक्षम नहीं है तो हमें सरकार गठन का मौका दिया जाए ।

इससे पहले भाजपा की एक केंद्रीय टीम ने बीमार चल रहे मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की अनुपस्थिति में वैकल्पिक नेतृत्व के कयास के बीच सोमवार को यहां गोवा के पूर्व विधायकों से मुलाकात की।

यहां एक होटल में सिलसिलेवार बैठक हुई, जिसकी अध्यक्षता भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) राम लाल और उनके सहयोगी बीएल संतोष और विजय पुराणिक ने की।

पूर्व ऊर्जा मंत्री महादेव नाईक ने कहा, हमने कहा है कि मुख्यमंत्री को अपने पद पर बने रहना चाहिए। यह अच्छे के लिए होगा वह अपना इलाज करा रहे हैं और जल्दी या बाद में स्वस्थ हो जाएंगे।

इस बात पर कोई चर्चा नहीं हुई कि क्या किसी को प्रभारी बनाया जाएगा। हाई कमांड इस पर निर्णय लेंगे।

बता दें कि रामलाल और उनकी टीम ने रविवार को पार्टी के मौजूदा विधायकों से पर्रिकर के नई दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती होने के बाद राज्य की राजनीतिक दिशा तय करने के लिए मुलाकात की थी।

भाजपा के सभी विधायकों और गठबंधन के साथी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी ने पर्रिकर के मुख्यमंत्री के तौर पर बने रहने की वकालत की थी,

गठबंधन के अन्य साथी गोवा फॉरवर्ड और तीन स्वतंत्र विधायकों ने मौजूदा नेतृत्व संकट के स्थाई व्यवस्था करने की मांग की थी।

रामलाल ने सोमवार की बैठक से पहले इस बात को नकार दिया कि बैठक में नेतृत्व बदलाव को लेकर चर्चा होगी, बल्कि कहा कि बैठक में लोकसभा चुनावों की तैयारियों को लेकर चर्चा होगी।

Back to top button