छत्तीसगढ़

कांग्रेस में कोई राष्ट्रीय अध्यक्ष तक बनने तैयार नही – भाजपा

रायपुर: भारतीय जनता पार्टी प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व विधायक श्रीचंद सुन्दरानी ने कांग्रेस पर पलटवार कर कहा है कि भाजपा सदस्यता अभियान के फर्जीवाड़े की बात कहकर कांग्रेस नेताओं ने अपने कारनामों और फर्जीवाड़ों को ही रेखांकित किया है। पार्टी ने कहा है कि पहले कांग्रेस नेता अपने संगठनात्मक ढांचे की फिक्र करें और दूसरे दलों की ताकाझांकी करने के अमर्यादित आचरण से बचें।

भाजपा प्रवक्ता सुन्दरानी ने कहा कि जिस दल के नेता खुद अपने संगठनात्मक ढांचे के भरभराकर गिरने और खंडहर बन जाने के बाद भी लाचारी से भरे हुए हैं, वे भाजपा के संगठनात्मक ढांचे और सदस्यता अभियान की प्रामाणिकता पर उंगली उठाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं रखते। भाजपा का सदस्यता अभियान पार्टी के लक्षावधि कार्यकर्ताओं के तप और पुरुषार्थ का प्रतीक है और पार्टी के पुरुषार्थी कार्यकर्ताओं ने पार्टी की विचारधारा को राजनीतिक स्वीकार्यता दिलाकर सदस्यों का एक बड़ा धरातल पर खड़ा किया है। कांग्रेस के लोग एक परिवार की चाटुकारिता में पूरी पीढ़ी खपाकर भी आज लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष का दर्जा तक हासिल करने में विफल हैं,

वे किस मुंह से भाजपा के सदस्यता अभियान पर सवाल उठा रहे हैं? पिछले दोनों लोकसभा चुनाव के नतीजों से बदहवास कांग्रेस नेता अपने लिए एक राष्ट्रीय अध्यक्ष तक दो महीने बाद भी चुन नहीं पाए हैं, यह कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे की असलियत को जगजाहिर करने के लिए पर्याप्त है। सारी ताकत झोंकने और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर लगातार व्यक्तिगत हमले करने से ही यह स्पष्ट हो गया था कि कांग्रेस न तो अब संगठन रह गई है और न ही विचारधारा।

भाजपा प्रवक्ता सुन्दरानी ने कहा कि कांग्रेस नेता भाजपा की संगठनात्मक प्रामाणिकता पर उंगली उठाने से पहले यह भी देखें कि कांग्रेस के संगठनात्मक ढांचे की असलियत यह है कि केरोसिन कोटे और दालभात केन्द्रों के लिए चावल कोटे में कटौती के लिए कांग्रेस जिस आंदोलन की नौटंकी करने जा रही है,

उसमें कार्यकर्ताओं की हाजिरी लगेगी! इसका अर्थ यही हुआ कि कांग्रेस नेताओं को अपने कार्यकर्ताओं पर ही भरोसा नहीं है और इसीलिए पीसीसी आंदोलन में नदारद रहने या रस्म अदायगी करने वाले कार्यकर्ताओं की रिपोर्ट बनाने का रास्ता अपनाकर अपने ही लोगों पर दबाव बनाने का काम कर रही है।

ऐसे दल के नेता भाजपा पर उंगली उठाते शोभा नहीं देते। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि जिस कांग्रेस में आज महीनों से राष्ट्रीय अध्यक्ष तक बनने को कोई तैयार नही हो रहा, वैसी पार्टी का विश्व की सबसे बड़ी पार्टी के अद्भूत सांगठनिक ढांचे पर सवाल उठाना हास्यास्पद है।

Tags
Back to top button