कांग्रेस के नेता शराब की अवैध बिक्री की कमाई छोड़ने तैयार नहीं-सूरज उपाध्याय

भूपेश सरकार ने कोरोना की पहली लहर से कुछ भी नहीं सीखा- कोमल हुपेंडी

  • धारा 144 लागू करने और पालन करने में सरकार खुद असफल-उत्तम जायसवाल
  • स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव अस्पताल प्रबंधन में नाकाम-प्रफुल्ल बैस

रायपुर : प्रदेश मीडिया सह प्रभारी अज़ीम खान ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि आज दिनांक 09/04/2021 को प्रदेश में कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति को संज्ञान में लेते हुए आम आदमी पार्टी के प्रदेश स्तर के नेताओं ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आपात बैठक की।

प्रदेश अध्यक्ष कोमल हुपेंडी ने कहा कि पिछले साल कोरोना संक्रमण और मौतों के मामलों की सूची में छत्तीसगढ़ निचले पायदान पर था।कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में छत्तीसगढ़ राज्य आज देश भर में दूसरे स्थान पर है जो यह दर्शाता है कि प्रदेश की भूपेश सरकार ने अपने पिछले अनुभवों से कुछ भी नहीं सीखा।मुख्यमंत्री जी को जिस समय महामारी से निपटने की तैयारियों की समीक्षा करनी थी उस समय वो असम चुनाव में रैलियाँ कर रहे थे।

धारा 144 का उल्लंघन

प्रदेश सह संयोजक सूरज उपाध्याय ने शराब दुकानों में उमड़ती भीड़ को कोरोना संक्रमण के लिए जिम्मेदार ठहराया और कहा कि शराब की बिक्री से लगभग 4000करोड़ का राजस्व प्राप्त होता है जो सरकार के कुल बजट का मामूली हिस्सा है।सच्चाई यह है कि शराब की अवैध बिक्री कॉंग्रेस के नेताओं के संरक्षण में हो रही है और वे उस कमाई के लालच में शराब दुकानों को बंद नहीं कर रहे हैं।
प्रदेश सचिव उत्तम जायसवाल ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मद्देनजर धारा 144 लागू है किंतु सरकार इसे सख्ती से लागू करने में असफल रही है और खुद धारा 144 का उल्लंघन कर रही है।

विगत दिनों रायपुर में आयोजित क्रिकेट मैच इसका प्रमाण है। प्रमुख रूप से रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव के दर्शकों की संख्या स्टेडियम में ज्यादा थी और यही तीन जिले प्रदेश में कोरोना संक्रमित जिलों की सूची में पहले तीन पायदानों पर हैं।इन जिलों में ईलाज की बात तो छोड़िए मरीजों के लिए बेड की व्यवस्था भी नहीं है।

प्रदेश संगठन मंत्री प्रफुल्ल बैस ने बताया 

प्रदेश संगठन मंत्री प्रफुल्ल बैस ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्री का अमला अस्पताल प्रबंधन में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रहा है।जिस तादाद में कोरोना संक्रमितों/मृतकों की संख्या बढ़ रही है उससे निपटने में अस्पताल प्रबंधन फेल हो रहा है।मृतकों के परिजनों को मरचुरी से लाश प्राप्त करने के लिए सीएमएचओ के दफ्तरों और मरचुरी में लाइन लगाना पड़ रहा है।सांख्यिकी विभाग द्वारा जारी मानव विकास सूचकांक की रिपोर्ट में स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में 36राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में छत्तीसगढ़ का स्थान 32वां है जो स्वास्थ्य मंत्रालय की नाकामी का प्रत्यक्ष प्रमाण है।

बैठक में उपस्थित पदाधिकारी इस बात पर सहमत हुए कि वर्तमान में राज्य सरकार की ओर से राजनीतिक आयोजनों/प्रदर्शनों पर प्रतिबंध है पर अगर राज्य में कोरोना के नियंत्रण में सरकार नाकाम रहती है तो आम आदमी पार्टी चुप नहीं बैठेगी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button