छत्तीसगढ़

पार्षद स्वर्णा शुक्ला सहित कांग्रेस नेत्रियों ने उत्तरप्रदेश की घटना को शर्मशार करने वाला बताया

ना ही कोई रीति रिवाज से उसके अंतिम संस्कार को करने दिया गया।

बिलासपुर: नगर निगम बिलासपुर की पार्षद स्वर्णा शुक्ला सहित कांग्रेस के सदस्य ज्योति मानिकपुरी, ज्योति तिवारी,आशा दुबे,सरस्वती यादव,ममता श्रीवास्तव सहित ने उत्तरप्रदेश की घटना को निदंनीय कहा एवं बताया कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में गत दिनों हुए बहन पीड़िता के साथ दुष्कर्म और हत्या भारत देश के समस्त नागरिकों के लिए शर्मसार कर देने वाली घटना है। इस घटना में जितने दोषी वहां वह अपराधी हैं उतने ही दोषी पुलिस प्रशासन के लोग हैं जिन्होंने मनीषा वाल्मीकि के शव को भी उनके परिजनों को देखने भी नहीं दिया और आधी रात को उसे जबरिया ले जाकर तेल छिड़ककर जला दिया ।ना ही कोई रीति रिवाज से उसके अंतिम संस्कार को करने दिया गया।

यह पूर्णतः निंदनीय है वह मानवीय है ।उत्तर प्रदेश की योगी सरकार क्या छुपाना चाहती है यह समझ से परे है, परंतु यह निश्चित ही जांच का विषय है कि हाथरस की घटना के पीछे कोई ना कोई बड़ी चीज छिपी है, जिसे दबाने के लिए पुलिस प्रशासन सहित समस्त प्रशासनिक अमला उत्तर प्रदेश का लगा हुआ है।

मैं इस घटना की पुरजोर निंदा करती हूं साथ ही बहन निर्भया को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं। उत्तरप्रदेश की घटना को निदंनीय कहा एवं बताया कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में गत दिनों हुए बहन निर्भया के साथ दुष्कर्म और हत्या भारत देश के समस्त नागरिकों के लिए शर्मसार कर देने वाली घटना है। इस घटना में जितने दोषी वहां वह अपराधी हैं उतने ही दोषी पुलिस प्रशासन के लोग हैं जिन्होंने निर्भया के शव को भी उनके परिजनों को देखने भी नहीं दिया और आधी रात को उसे जबरिया ले जाकर तेल छिड़ककर जला दिया ।

ना ही कोई रीति रिवाज से उसके अंतिम संस्कार को करने दिया गया। यह पूर्णतः निंदनीय है वह मानवीय है ।उत्तर प्रदेश की योगी सरकार क्या छुपाना चाहती है यह समझ से परे है, परंतु यह निश्चित ही जांच का विषय है कि हाथरस की घटना के पीछे कोई ना कोई बड़ी चीज छिपी है, जिसे दबाने के लिए पुलिस प्रशासन सहित समस्त प्रशासनिक अमला उत्तर प्रदेश का लगा हुआ है। मैं इस घटना की पुरजोर निंदा करती हूं साथ ही बहन निर्भया को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button