किसान समस्या और पुलिस आंदोलन के समर्थन में कांग्रेसी नेताओं ने ये कहा

सरकार पर जमकर बरसे

रायपुर:कांग्रेस ने किसानों के मुद्दे में सरकार पर जमकर हमला बोला।तो वहीँ पुलिस के परिवार के आंदोलन का समर्थन भी किया .प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि सोसाइटियों में खाद्य-बीज की कमी है।

भूपेश ने कहा कि किसानों को क्षतिपूर्ति देने के लिए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से चार हजार करोड़ रूपए की मांग की थी, लेकिन सरकार को महज 396 करोड़ रूपए ही मिला ।

बावजूद इसके किसानों को मुआवजा नहीं दिया गया।सरकार बदहाल किसानों को भी प्रताड़ित करने में उतर आई है। बीमा की जो राशि किसानों के हिस्से आई, उसे भी ऋण में समायोजित कर दिया जा रहा है। यूरिया में पांच किलो वजन कम हो गया है।

सोसाइटियों में बीज नहीं मिल रहा।ऐसी ही स्थिति प्रदेशभर में बनी हुई है।दिनोंदिन हालत बद से बदतर होते जा रहे हैं।भूपेश ने कहा कि नैतिकता के आधार पर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाए।

वरिष्ठ कांग्रेसी विधायक धनेंद्र साहू ने कहा कि जिस तरह से फसल क्षति पूर्ति का आंकलन होना था, वैसा नहीं किया गया।पूरी तरह से पक्षपात पूर्ण ढंग से फसल बीमा का लाभ दिया जा रहा है।

फसल बीमा में अपने लोगों को अनुचित लाभ पहुंचाने राजनीतिक तौर पर निर्णय़ लिया गया है।किसानों को लूटने का यह तरीका है। किसान आत्महत्या करने पर मजबूर है।।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मो. अकबर ने कहा कि पुलिस अधीक्षक और थानेदार का 2 साल तक तबादला नहीं किया जा सकता, हां लेकिन कुछ बिन्दुओ के आधार पर तबादला किया जा सकता है।लेकिन राज्य में पुलिस अधीक्षक जिले को जाने उससे पहले ही उसका तबादला कर दिया जाता है।

ऐसा ही हाल थानेदारों का होता है,उन्हें भी इलाके की समझ से पहले ही बदल दिया जाता है। राज्य में कानून व्यवस्था इतनी लचर है कि प्रशासन पर सरकार का नियंत्रण खत्म हो गया है।

वहीं वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि सरकार निरकुंश हो गई है. तानाशाही चल रही है. उन्होंने कहा कि ये कैसा कानून है, जहां चंद महीनों में पुलिस वालों का ट्रांसफर कर दिया जा रहा है।

शर्मा ने कहा कि अपनी मांगों को लेकर आंदोलन की राह पर चल रहे पुलिस परिवार के साथ कांग्रेस पार्टी खड़ी है।उन्होंने कहा कि सरकार के पास आंदोलनकारियों से मिलने के लिए समय ही नहीं है।

new jindal advt tree advt
Back to top button