छत्तीसगढ़राजनीति

प्रधानमंत्री के गांव गांव तक बिजली पहुंचाने के दावे को कांग्रेस ने बताया झूठा

प्रधानमंत्री ने ट्विट कर कहा था हर गांव तक पहुंची बिजली

प्रधानमंत्री के गांव गांव तक बिजली पहुंचाने के दावे को कांग्रेस ने बताया झूठा

रायपुर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गांव गांव तक बिजली पहुँचाने का दावा किया गया है. प्रधानमंत्री के इस दावे के बाद कांग्रेस ने भी इसमें प्रतिक्रिया दी है. प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज ट्वीट करके दावा किया है कि पूरा किया गांव-गांव तक बिजली पहुंचाने का वादा।

बड़े-बड़े विज्ञापन अरबो, करोड़ो का खर्च करके जारी किये गये। विज्ञापन में ही नीचे छोटी सी लाईन में लिखा है कि राज्यों द्वारा चिन्हित सभी गांवों का विद्युतीकरण आज के दैनिक समाचार पत्रों में प्रधानमंत्री ने देश के सभी गांवों तक बिजली पहुंचाने का दावा किया है।

यह दावा गलत है। अगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूरे देश में हर गांव में बिजली पहुंचा दी है क्या? इसमें तो छत्तीसगढ़ में 13 फरवरी 2018 को मणिपुर के लिजिंग गांव को उन्होने अंतिम गांव के रूप में रेखांकित किया है। अभी-अभी हुये छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र में पाटन के विधायक और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के एक सावल के जवाब में मुख्यमंत्री रमन सिंह जो कि ऊर्जा मंत्री है।

उन्होने भी कहा था कि छत्तीसगढ़ में 122 गांव और 6191 बसाहटों तक बिजली पहुंचना शेष है। कांग्रेस जानना चाहती है कि इन 122 गांव और 6191 बसाहटों की जानकारी मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ऊर्जा मंत्री के रूप में प्रधानमंत्री को दी थी या नहीं दी थी और ये 122 गांव 6191 बसाहटें इस सूची में शामिल है या नहीं है? ये बहुत बड़े आपसी मतभेद की स्थिति है। शैलेश ने कहा कि कांग्रेस चाहती है कि इसको छत्तीसगढ़ के संदर्भ में इस मामले में क्लियर किया जाये।

प्रधानमंत्री के दावे के परिपेक्ष्य में मुख्यमंत्री रमन सिंह से कांग्रेस का सवाल है कि क्या ये 122 गांव और 6 हजार 191 बसाहटो तक बिजली पहुंच गयी है, जैसा कि दावा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने ट्वीट में और केन्द्र सरकार के विज्ञापनों में किया है? हालांकि इस आशय में विज्ञापनों में ऊपर तो लिखा है कि पूरा किया गांव-गांव तक बिजली पहुंचाने का वादा। छत्तीसगढ़ के 122 गांवों और 6191 बसाहटों को रमन सरकार ने चिंहित किया या नहीं? छत्तीसगढ़ के कितने गांवों को चिंहित किया है? छत्तीसगढ़ के इन 122 गांवों 6191 बसाहटों को चिंहित नहीं किया तो क्यों नहीं किया? किया था तो इनका विद्युतीकरण हो गया क्या? अगर पहुंच गयी है तो डाॅ. रमन सिंह राज्य की जनता को इन गांवों और बसाहटों की सूची जारी करें, और अगर नहीं पहुंची है तो ये स्पष्ट किया जाये कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गलत बोल रहे है या मुख्यमंत्री रमन सिंह ने गलत कहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अब घर-घर तक बिजली पहुंचाने का है इरादा व्यक्त की थी। अब सात करोड़ पांच लाख घरों में 122 गांवों और 6191 बसाहटों की ही तरह छत्तीसगढ़ के कितने घरों को छोड़ दिया है? प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने देश के विद्युतीकरण के आंकड़े जारी करते हुये कहा है कि लिजिंग मणिपुर का गांव देश का अंतिम गांव था जिसका विद्युतीकरण करना बचा था।

649867 गांवों को देश में 97 प्रतिशत गांवों को बिजली से जोड़ा गया। 107600 गांवो को 2004 से 2014 तक 10 वर्षो में यूपीए की सरकार में बिजली से जोड़ा गया। 26 मई 2014 को 18452 गांवों में बिजली नहीं थी। 46 माह में 4813 गांव प्रतिवर्ष की दर से जोड़ा गया। अपनी अक्षमता के लिये श्रेय लेने का काम भाजपा की सरकारें ही कर सकती है।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.