पहलाज निहलानी ने राजनीति के चश्मे से देखा ‘इंदु सरकार’ का ट्रेलर

जहां एक ओर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर बनने वाली फिल्म के निर्माताओं को उनसे (मनमोहन सिंह) अनापत्ति प्रमाण-पत्र (एनओसी) लेने के लिए कहा जाएगा, वहीं इंदिरा गांधी द्वारा घोषित आपातकाल पर बनी फिल्म ‘इंदु सरकार’ के निर्देशक मधुर भंडारकर इस मामले में राहत की सांस ले सकते हैं। केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के अध्यक्ष पहलाज निहलानी इस फिल्म के ट्रेलर को देखकर बेहद रोमांचित हैं। उनका कहना है कि ‘इंदु सरकार’ को कांग्रेस या गांधी परिवार के किसी सदस्य से अनापत्ति प्रमाण-पत्र लेने की जरूरत नहीं है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद पहलाज निहलानी काफी उत्साहित हैं। उन्होंने एक न्यूज एजेंसी को कहा, ‘मैंने मधुर भंडारकर की फिल्म का ट्रेलर देखा। मैं उन्हें भारतीय राजनीति के सबसे शर्मनाक पन्नों में से एक पर से पर्दा हटाने के लिए बधाई देना चाहता हूं। यह पूरी दुनिया में देश को शर्मसार करने वाला समय था। इस दौरान कई बड़े नेताओं को जेल जाना पड़ा था। वहीं दूसरी तरफ भारतीयों के मनोबल को भी कुचला गया था।’

बता दें कि वास्तविक घटनाओं पर बनने वाली फिल्मों को संबंधित लोगों से एनओसी लेनी पड़ती है। इस नियम को नहीं मानने पर फिल्म रिलीज भी नहीं होती है।
पहलाज निहलानी ने इस बाबत कहा, ‘इंदु सरकार किसी का नाम नहीं है। ट्रेलर में इंदिरा, संजय या किसी और का जिक्र नहीं किया गया है। सिर्फ शारीरिक समानता की वजह से फिल्म में उनके उल्लेख का अनुमान लगाया जा रहा है। अगर ऐसा होता है तो हम जरूर इस पर ध्यान देंगे। फिलहाल मुझे खुशी है कि किसी ने इमरजेंसी पर फिल्म बनाई है।’
राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्मकार मधुर भंडारकर की ‘इंदु सरकार’ इमरजेंसी पर करारा प्रहार कर रही है। कीर्ति कुल्हारी इंदु सरकार के किरदार में है, जोकि इमरजेंसी के दौरान सिस्टम के खिलाफ खड़ी होती है। संजय गांधी के रोल में नील नितिन मुकेश की एक्टिंग काफी शानदार है। वहीं सुप्रिया विनोद पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का किरदार निभाती नजर आएंगी। फिल्म में अनुपम खेर भी हैं। यह 28 जुलाई को रिलीज हो रही है।

Back to top button