किसानों की कर्ज माफी के साथ राजस्थान में कांग्रेस ने किया घोषणा पत्र जारी

नौकरी न मिल पाने पर 3,500 तक का दिया जाएगा आर्थिक सहारा

जयपुर:

राजस्थान में होने वाले आगामी विधनसभा चुनाव के मद्देनजर आज गुरुवार को अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया है। जिसमे सबसे पहले राजस्थानी किसानों की कर्ज माफी की बात कही है।

जयपुर के पीसीसी कार्यालय में गुरुवार सुबह सचिन पायलट, अशोक गहलोत समेत कई अन्य नेताओं की मौजूदगी में घोषणा पत्र जारी किया गया। सचिन पायलट ने जन घोषणा पत्र को जारी किया। अपने इस घोषणा पत्र को जारी करने से पहले कांग्रेस द्वारा जनता से सोशल मीडिया के जरिए सुझाव भी लिए गए थे।

घोषणा पत्र की मुख्य बातें-

-किसानों का कर्ज कांग्रेस माफ करेगी.

-राजस्थान में जो लड़की पैदा होंगी, उनकी पढ़ाई पूरी होने तक का खर्च राजस्थान सरकार उठाएगी.

-कृषि उपकरणों को जीएसटी मुक्त करने की पहल की जाएगी.

-जो नौजवान अपने एडमिशन कार्ड लेकर आएंगे, उनकी परीक्षा के लिए यात्रा को फ्री किया जाएगा.

-असंगठित मजदूरों और किसानों के लिए बोर्ड बनाया जाएगा.

-रोजगार देने की कोशिश की जाएगी, नहीं तो ऋण प्रक्रिया को आसान बनाया जाएगा.

-नौकरी न मिल पाने पर 3,500 तक का दिया जाएगा आर्थिक सहारा.

-राइट टू हेल्थ का प्रस्ताव लाएंगे.

-सरकार से मांगे जाने वाले डॉक्यूमेंट 30 दिनों में मिलेंगे.

-बुजुर्ग किसानों के लिए पेंशन का किया है प्रावधान.

घोषणा पत्र जारी करने के साथ कांग्रेस, बीजेपी द्वारा किए गए कामों और घोषणा पत्र पर भी सवाल उठाते हुए नजर आई। पायलट ने घोषणा पत्र जारी करते हुए बीजेपी पर हमला करते हुए कहा, ‘हजारों जवानों पर लाठियां बरसाकर नौकरी देने का वादा करने वाली बीजेपी को शर्म करनी चाहिए,

युवाओं को नौकरी देने पर बीजेपी ने हर बार झूठ बोला है। हमारी सरकार आएगी तो केन्द्र सरकार के साथ मिलकर प्रदेश की बेहतरी के लिए काम करेगी’।

वहीं अशोक गहलोत ने संबोधन के दौरान कहा कि राहुल गांधी की मंशा के अनुसार हमने जनता से ही उनकी समस्याएं जानी और उसे घोषणा पत्र में शामिल किया। यह हमारा ‘राहुल मॉडल’ है। वसुंधरा सरकार ने कांग्रेस की जिन योजनाओं को बंद कर दिया, उन्हें दोबारा शुरू किया जाएगा।

वहीं बीजेपी पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, राजे सरकार ने कॉलेड और यूनिवर्सिटी को बंद करने का काम किया है। अंबेडकर के नाम की यूनिवर्सिटी को बंद करने की गई थी कोशिश। वहीं फ्री दवाई योजना के नाम पर मुझे बदनाम किया गया है। हम प्रशासनिक अधिकारियों के साथ मिलकर इस मैनिफस्टो को लागू करेंगे।

1
Back to top button