मध्यप्रदेश

कर्ज माफी पर सरकार बनाई फिर मुकर गए, ऐसी कलाकार है कांग्रेस: शिवराज

कहने लगे सिर्फ अल्पकालीन फसली ऋण ही माफ होगा।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने चुनावी अभियान मे पुर्व सीएम कमलनाथ पर जमकर बरस रहे है शुक्रवार को मालवा की सुवासरा, हाटपिपल्या और आगर विधानसभाओं के मंडल सम्मेलनों में शिवराज ने कहा कि कर्जमाफी के नाम पर कमलनाथ सरकार ने किसानों को धोखा दिया है चौहान ने कहा कि कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने मंदसौर में यह घोषणा की थी कि हमारी सरकार बनने पर सभी किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ होगा। लेकिन जब सरकार बनी, तो शर्तें लगा दीं।

कहने लगे सिर्फ अल्पकालीन फसली ऋण ही माफ होगा। फिर कहने लगे 31 मार्च 2018 तक का कर्ज माफ करेंगे, चालू खातों का नहीं। फिर सरकार ने कर्जमाफी की रकम 6000 करोड़ में से आधा भार बैंकों, सहकारी संस्थाओं पर डाल दिया। बैंकों को पैसा दिया नहीं और कर्जमाफी के झूठे प्रमाण पत्र दे दिये। इससे लाखों किसान को नुकसान हुआ । चौहान ने कहा कि यह कमलनाथ सरकार की बाजीगरी है और इस तरह की कलाकारी सिर्फ कांग्रेस कर सकती है ।

चौहान ने कहा कि कांग्रेस सराकर के समय जब भी कोई विधायक, मंत्री अपने क्षेत्र के विकास की बात करते थे तो कमलनाथ के पास एक ही जवाब होता था कि पैसे नहीं हैं। वे पूरे समय पैसे की कमी का रोना रोते रहे लेकिन मामा कहता है विकास के लिए पैसे की कोई कमी नहीं है। जो पैसे की कमी का बहाना लेकर हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाए, वो नेता कैसा? शिवराज ने कहा कि मैं विकास में कोई कसर नहीं छोड़ूंगा और जनता की जरूरत के लिए कभी पैसे की कमी को आड़े नहीं आने दूंगा।

कितनी गलतियां और पाप गिनाएं?

चौहान ने तंज भरे लह्जे मे कहा कि अब कमलनाथ पूछ रहे हैं कि मुझसे क्या गलती हुई, क्या पाप किया। मैं कहता हूं कि कितनी गलतियां गिनाएं कमलनाथ? हम बच्चों की फीस भरते थे, आपकी सरकार ने बंद कर दी। हम बहनों को लड्डू के 16000 देते थे, बंद कर दिए। कन्यादान योजना की राशि नहीं दी, गरीबों की मौत पर मिलने वाली राशि नहीं दी, तुमने तो गरीबों का कफन तक छीन लिया। बुजुर्गों का तीर्थदर्शन बंद करा दिया, बच्चों के लेपटॉप, स्मार्टफोन छीन लिए और पूछते हो कि क्या पाप किया?

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button