छत्तीसगढ़राजनीति

कांग्रेस बाहुबल से निकाय चुनाव जीतना चाहती है: संजय श्रीवास्तव

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने नगरीय निकाय चुनाव बैलेट पेपर से कराने के निर्णय को तुगलकी बताया है। श्रीवास्तव ने कहा कि कांग्रेस बाहुबल और सत्ता का इस्तेमाल कर निकाय चुनाव जीतना चाहती है।

भाजपा प्रवक्ता श्रीवास्तव ने कहा कि ईवीएम से चुनी हुई सरकार ने ईवीएम चुनाव प्रक्रिया पर अविश्वास करके अपनी नासमझी और राजनीतिक विवेकशून्यता का ही परिचय दिया है। चुनाव आयोग ने माना है कि नगरीय निकाय चुनाव बैलेट पेपर से कराने पर एक सौ टन कागज इसमें खर्च होगा। इसी तरह पाँच हजार बूथों पर मत पेटियां पहुंचाने में जो खर्च आएगा वह अलग है।

श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश सरकार को प्रदेश के गहराते आर्थिक संकट से कोई मतलब ही नहीं है, वह तो बस बैक डोर एंट्री करके येन-केन-प्रकारेण अपनी सत्ता लोलुपता पूरी करने पर उतारू है। बैलेट पेपर से चुनाव कराने का निर्णय भी प्रदेश सरकार के इसी एजेंडे का एक हिस्सा है जिसमें राजनीतिक शुचिता और लोकतांत्रिक मान्यताओं व परंपराओं की खुलेआम धज्जियां उड़ाने की मंशा पर प्रदेश सरकार काम करती दिख रही है।

इन सबसे बड़ी बात तो पर्यावरण की है। एक तरफ प्रदेश सरकार हरियर छत्तीसगढ़ के नाम पर करोड़ों रुपए पानी की तरह बहाकर पौोधारोपण के अभियान चला रही है वहीं दूसरी ओर भारी मात्रा में कागज खर्च कर बैलेट पेपर से चुनाव कराकर लाखों पेड़ों की बलि लेने में नहीं हिचकिचा रही है।
भाजपा प्रवक्ता श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश सरकार को राज्य की आर्थिक स्थिति के संकट का जरा भी भान नहीं है।

शासकीय सेवकों को समय पर वेतन नहीं मिल रहा है, जरूरी योजनाएं लंबित पड़ी हैं, विकास के सारे काम कमी के चलते ठप पड़े हुए हैं और प्रदेश सरकार तुगलकी फरमान जारी करके अपनी सत्ता लोलुपता की अंधी दौड़ में ही मशगूल है! प्रदेश सरकार के इन तमाम तमाम तुगलकाबाद फरमानों और जनविरोधी कृत्यों का माकूल जवाब प्रदेश की जनता जवाब देगी। श्रीवास्तव ने शासन से हठ धर्मिता को छोड़कर प्रदेश को पाषाण युग से ले जाने से बचने की सलाह दी है।

Tags
Back to top button