कांग्रेस का इतिहास व राजनीतिक चरित्र ही बदजुबानी का रहा है : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने जगदलपुर में प्रदेश के पूर्व मंत्री केदार कश्यप के भाषण पर बिफरी कांग्रेस की टिप्पणियों पर तंज कसा है। भाजपा ने कहा है कि कांग्रेसी पहले अपने केंद्रीय व प्रांतीय नेताओं की भाषा का मूल्यांकन करें।

भाजपा के निवर्तमान सांसद दिनेश कश्यप ने कहा कि कांग्रेस के लोगों को अब पूर्व मंत्री कश्यप के भाषण पर तकलीफ हो रही है, पर जब उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष से लेकर मुख्यमंत्री और दीगर कांग्रेसी नेता तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के लिए अपमानजनक, अमर्यादित और स्तरहीन टिप्पणियां करते हैं, तब उन्हें तकलीफ क्यों नहीं होती? राजनीतिक मतभेद और विरोध की एक मर्यादा होती है और विपक्षियों को कम-से-कम प्रधानमंत्री के प्रति अपनी भाषा में शिष्टाचार का परिचय तो देना ही चाहिए।

कश्यप ने पूर्व मंत्री कश्यप को लेकर टिकट कटने से दिमागी हालत ठीक नहीं& जैसी टिप्पणी पर पलटवार कर कहा कि दरअसल केन्द्र में सत्ता के विछोह में कांग्रेस इस कदर बदहवास हो गई है कि उसे अपनी भाषा और विचारों में व्यक्त अशिष्टता का भान नहीं रहता है।

कश्यप ने कांग्रेस नेताओं पर सत्तावादी अहंकार से ग्रस्त होने का आरोप लगाते हुए कहा कि जिस कांग्रेस की सरकार के एक मंत्री भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के लिए उसेंडी-फुसेंडी जैसा संबोधन कर आदिवासियों का खुला अपमान करते हैं, उस कांग्रेस को दूसरों को नसीहत देने से पहले अपनी भाषा का स्तर देखना चाहिए। कांग्रेस का तो राजनीतिक चरित्र और इतिहास ही बदजुबानी का रहा है।

उसे न तो आदिवासियों की जुबान पंसद है और न ही अपने खिलाफ उठने वाली आवाज। बस्तर के राजा प्रवीरचंद भंजदेव के राजमहल में कराए गए गोलीकांड का इतिहास कांग्रेसी न भूलें, जिसमें बड़ी संख्या में आदिवासी भाई-बहन मारे गए थे और खुद भंजदेव भी इस गोलीकांड का शिकार हुए थे। बस्तर टाइगर के नाम से विख्यात महेन्द्र कर्मा जी को जिस तरह कांग्रेस हमेशा अपमानित करती रही, उनके द्वारा शुरू किए गए नक्सलियों के खिलाफ संघर्ष का जिस तरह कांग्रेसी दिल्ली तक विरोध करते रहे, वह बस्तर के आदिवासीगण भूले नहीं है।

कश्यप ने कहा कि अब जमाना बदल गया है। प्रदेश के आदिवासी जागरूक हो गए हैं, कांग्रेस को अच्छा लगे या बुरा लेकिन आदिवासियों की अभिव्यक्ति की आजादी को वे अब छीन नही सकते। प्रदेश के आदिवासियों ने राष्ट्रीय विषयों पर हमेशा से भाजपा के साथ खड़े होकर लोकसभा की शत् प्रतिशत सीट हमेशा भाजपा को देकर कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब देती रही है।

कश्यप ने कांग्रेस को चेतावनी देते हुए कहा कि आदिवासियों के बारे में बात करते हुए कांग्रेस संयमित रहे, अन्यथा अब आदिवासीगण इसे सहन नही करेंगे और कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब देंगे।

Back to top button