एसोम्प्शन आइलैंड पर नौसेना अड्डा परियोजना पर बातचीत जारी पर सहमती

भारत ने सेशेल्स को प्रतिरक्षा क्षमताओं और समुद्री बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने के लिए 10 करोड़ डॉलर ऋण प्रदान करने की घोषणा की।

इंटर्नेशनल : भारत और सेशेल्स ने सोमवार को एसोम्प्शन आइलैंड पर नौसेना अड्डा परियोजना पर बातचीत जारी रखने पर सहमति जताई। वहीं, भारत ने सेशेल्स को प्रतिरक्षा क्षमताओं और समुद्री बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने के लिए 10 करोड़ डॉलर ऋण प्रदान करने की घोषणा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सेशेल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे के बीच हैदराबाद हाउस में हुई वार्ता के बाद यहां दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया, जिसमें मोदी ने एसोम्प्शन आइलैंड के मसले कहा, “हम एक दूसरे के हितों के अधार पर साथ-साथ काम करने को तैयार हैं।”

मोदी के 2015 में सेशेल्स के पहले दौरे के दौरान दोनों देशों ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे, जिसके तहत भारत को वहां नौसेना अड्डा बनाने की अनुमति प्रदान की गई थी। हालांकि सेशेल्स में विपक्ष ने इस करार का विरोध किया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आमंत्रण पर पहले द्विपक्षीय दौरे पर भारत आए फौरे ने दिल्ली पहुंचने से पहले अहमदाबाद और गोवा की यात्रा की।

फौरे ने भी मसले पर वार्ता जारी रखने की मंशा जाहिर करते हुए कहा, “समुद्री सुरक्षा के संदर्भ में एसोम्प्शन आइलैंड पर बातचीत हुई। हम समान रूप से इसमें शामिल हैं और एक-दूसरे के हितों को ध्यान में रखते हुए आगे भी साथ मिलकर काम करते रहेंगे।”

फौरे ने कहा, “उपक्षेत्रीय, क्षेत्रीय और महासागरीय एजेंडा के प्राथमिक क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने और सुगम बनाने के लिए संयुक्त पहलों और सामूहिक प्रयास जारी रखने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं।”

भारत ने सेशेल्स को रक्षा क्षमता मजबूत करने और समुद्री अवसंरचना और सैनिकों की क्षमता बढ़ाने के लिए 10 करोड़ डॉलर की साख देने की घोषणा की।

मोदी ने कहा, “मुझे सेशेल्स की प्रतिरक्षा के लिए 10 करोड़ डॉलर ऋण की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। इस ऋण से सेशेल्स समुद्री क्षमता का निर्माण करने के लिए भारत से रक्षा उपकरण खरीद सकता है।”

फौरे के इस दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच संस्कृति, साइबर सुरक्षा, समुद्री सुरक्षा, संरक्षा व सहयोग, कूटनीति और बुनियादी ढांचा विकास के क्षेत्रों में छह नए समझौते हुए।

फौरे ने कहा, “एक दूसरे ऋण से हमें लाभ मिलेगा और इससे हमें सेशेल्स में अपने सैन्य बलों के लिए बुनियादी ढांचा तैयार करने में मदद मिलेगी। अनुदान के जरिए हम नए सरकारी भवन का निर्माण करेंगे। हम नए पुलिस मुख्यालय और महान्यायवादी कार्यालय का निर्माण करेंगे।”

मोदी ने कहा कि भारत की ओर से सेशेल्स को ड्रोनियर विमान प्रदान करने का प्रस्ताव है, जो 29 जून को सेशेल्स के राष्ट्रीय दिवस से पहले वहां होगा।

Back to top button