बांग्लादेश में मतदान से पहले चले प्रचार के दौरान हिंसा में 10 लोगों की मौत

सरकार पर विपक्षी कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के आरोप

ढाका: बांग्लादेश में मतदान से पहले कई सप्ताह तक चले प्रचार के दौरान काफी हिंसा हुई और सरकार पर विपक्षी कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के आरोप लगे.

स्थानीय समयानुसार सुबह आठ बजे शुरू हुए मतदान में भाग लेने के लिए महिलाओं सहित हजारों की संख्या में लोग पहुंच रहे हैं. वहीं मतदान के दौरान हिंसा भी हुई. इसमें कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई. साथ ही 10 से अधिक लोग घायल हुए हैं.

राजधानी में ढाका सिटी सेन्टर कॉलेज में सबसे पहले प्रधानमंत्री शेख हसीना ने वोट डाला. हसीना के रिश्तेदार एवं पार्टी सांसद फजले नूर तापस इस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. हसीना ने कहा, ‘‘उदारवादी बलों को जीत दिलाने के लिए लोग आवामी लीग के पक्ष में मतदान करेंगे.’’

एक ओर जहां हसीना चौथी बार प्रधानमंत्री बनने के लिए चुनाव लड़ रही हैं, वहीं दूसरी ओर जेल में बंद उनकी चिर प्रतिद्वंदी खालिदा जिया का भविष्य अधर में लटका नजर आता है. सूचनाओं के मुतबिक जिया आंशिक रूप से लकवाग्रस्त हैं.

advt
Back to top button