सरगुजा में संविधान दिवस का आयोजन 26 नवम्बर को होगा संपन्न

रोशन सोनी

अम्बिकापुर।

भारत सरकार द्वारा डॉ. बी.आर. अम्बेडकर की 125 जयंती के अवसर पर ‘‘संविधान दिवस‘‘ मनाए जाने का निर्णय लिया गया है। डॉ. अम्बेडकर भारतीय संविधान के प्रारूप निर्माण समिति के अध्यक्ष थे। भारतीय संविधान को 26 नवम्बर 1949 को अंगीकृत किया गया था। 

भारत सरकार द्वारा लिए गए निर्णय अनुसार 26 नवम्बर 2018 को सम्पूर्ण भारत में संविधान दिवस के रूप में मनाया जाना सुनिश्चित हुआ है।

कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने बताया है कि इस अवसर पर जिले के सभी शैक्षणिक संस्थाओं एवं सभी शासकीय कार्यालयों में भारतीय संविधान के ‘‘प्रस्तावना‘‘ को पढ़ा जाएगा।

इसके अलावा आदर्श आचरण संहिता को ध्यान में रखते हुए शैक्षणिक संस्थाओं, महाविद्यालय, विश्वविद्यालय के छात्रों में संविधान के प्रति जागरूकता के लिए मॉक पार्लिमेंट, निबंध लेखन, वाद-विवाद प्रतियोगिता एवं व्याख्यान आयोजित किए जाएंगे।

इसके अलावा भी संवैधानिक प्रावधानों के संबंध में प्रतियोगिताएं आयोजित की जा सकेंगी। संविधान का प्रारूप इस प्रकार है – हम भारत के लोग, भारत को एक ‘‘संपूर्ण प्रभुत्व-संपन्न समाजवादी पंथनिरपेक्ष लोकतंत्रात्मक गणराज्य‘‘ बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त कराने के लिए तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा और ‘‘राष्ट्र की एकता और अखंडता‘‘ सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढाने के लिए दृढ़ संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज 26 नवम्बर 1949 नवम्बर को एतद् द्वारा इस संविधान को अंगीकृत अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं। 

1
Back to top button