छत्तीसगढ़

राजधानी में 3 नए कोविड सेंटर बनाने का काम शुरू, तीनों अस्थायी अस्पतालों में होंगे 530 बेड

पहली बार इन अस्पतालों में मरीजों के इंडोर गेम्स की व्यवस्था की जा रही

रायपुर: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 3 नए कोविड सेंटर बनाने का काम शुरू हो चूका है। जानकारी के अनुसार अंतर्राज्यीय बस टर्मिनल, फुंडहर छात्रावास तथा साइंस कालेज के स्पोट्र्स कांप्लेक्स में 530 बेड सहित तीन अस्थायी अस्पताल बनाए जायेंगे। पहली बार इन अस्पतालों में मरीजों के इंडोर गेम्स की व्यवस्था की जा रही है, ताकि वे बोर न हों।

मेयर एजाज ढेबर ने सोमवार को सभी अस्पतालों का निरीक्षण किया है। तीनों कोविड सेंटर बनाने का जिम्मा नगर निगम और स्मार्ट सिटी ने लिया है। इसके लिए फुंडहर के कामकाजी महिला छात्रावास में 230 बेड, अंतरराज्यीय बस स्टैंड में 200 और साइंस कॉलेज के पास स्पोट्र्स कॉम्प्लेक्स में 100 बेड रहेंगे।

निगम के कार्यपालन अभियंता योजना राजेश शर्मा ने स्वास्थ्य व चिकित्सा विभाग के दिशा-निर्देशों के अनुरूप इन अस्पतालों को तैयार करने की जानकारी मेयर को दी। इससे पहले निगम व स्मार्ट सिटी ने मिलकर इंडोर स्टेडियम को अस्थाई कोविड-19 सेंटर में बदला था। अभी वहां 226 मरीज भर्ती हैं।

यहां भी मरीजों को एलईडी स्क्रीन पर प्रेरक फिल्में व धारावाहिक दिखाई जा रही है। इसके अलावा लूडो, कैरम व इंडोर जिम की व्यवस्था भी की गई है। जिला प्रशासन के निर्देश में स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टॉफ की निगरानी में इन मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

प्रभावित क्षेत्रों में सेनिटाइजेशन :

शहर में कोरोना के बढ़ रहे मरीजों को देखते हुए मेयर और संसदीय सचिव विकास उपाध्याय सड़क पर उतरकर प्रभावित इलाकों को सेनिटाइज करवा रहे हैं। सोमवार को जोन-5 के वार्डों में दवा का छिड़काव किया गया गया।

संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने बताया कि वार्डों को सैनेटाइज करने मशीनों का उपयोग किया जा रहा है। जोन-5 के वार्ड विवेकानंद आश्रम से आरडी तिवारी तक, आरडी तिवारी से लेकर दीनदयाल उपाध्याय नगर, गोलचौक तक, दीनदयाल उपाध्याय नगर से लेकर कुकुरबेड़ा, डगनिया, रोहिणी पुरम, रोहिणीपुरम से लेकर ठाकुर प्यारे लाल वार्ड तक फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों का भी उपयोग किया गया। इसके बाद जोन-1 व 7 के वार्डों में सेनिटाइजेशन किया जाएगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button