राष्ट्रीय

चन्दा कोचर के साथ मैटिक्स ग्रुप के प्रमोटर निशांत कनोडिया से भी लगातार पूछताछ

चन्दा कोचर पर एक और कंपनी को लोन देकर अपने पति की कंपनी को फायदा पहुंचाने का शक

मुंबई: कर्ज दिलाने के बदले अप्रत्यक्ष लाभ मामले में फंसी चन्दा कोचर, उनके पति और विडियोकॉन के खिलाफ सीबीआई 22 जनवरी को एफ़आईआर दर्ज कर बैंक को ठगने की साजिश का आरोप लगा चुकी है. अब ईडी मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत जांच कर रही है और मामले में सभी आरोपियों पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई है.

इस मामले में अब चन्दा कोचर के साथ-साथ मैटिक्स ग्रुप के प्रमोटर निशांत कनोडिया से भी लगातार पूछताछ कर रही है. आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चन्दा कोचर पर एक और कंपनी को लोन देकर अपने पति की कंपनी को फायदा पहुंचाने का शक है.

पहले आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चन्दा कोचर के घर पर छापा पड़ा, अब उन्हें ईडी दफ़्तर के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. प्रवर्तन निदेशालय लगातार 2 दिन से चन्दा कोचर से घंटों पूछताछ कर रहा है. सोमवार को भी 11 घन्टे की पूछताछ के बाद रात 10 बजे घर जाने दिया गया.

नया मामला निशांत कनोडिया से जुड़ा है. ईडी को पता चला है कि विडियोकॉन के वेणुगोपाल धूत की तरह ही निशांत कनोडिया की मॉरिशस की कंपनी फर्स्ट लैंड ने भी नु पॉवर में 325 करोड़ रुपये निवेश किये थे.

निशांत कनोडिया एस्सार ग्रुप के प्रमोटर रवि रुईया का दामाद

निशांत कनोडिया एस्सार ग्रुप के प्रमोटर रवि रुईया के दामाद हैं. एस्सार ग्रुप को भी आईसीआईसीआई ने कर्ज दिया था जो एनपीए हो चुका है. एजेंसी को शक है कि दामाद के जरिये लोन के बदले चन्दा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी में निवेश किया गया था. इसके पहले विडियोकॉन के वेणुगोपाल धूत से भी दो दिन लंबी पूछताछ हो चुकी है.

आरोप है कि विडियोकॉन ने आईसीआईसीआई बैंक से मिले 3250 करोड़ के लोन में से 64 करोड़ रुपये चन्दा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी नु पॉवर में लगाए थे. ईडी अब दोनों कंपनियों और दीपक कोचर की कंपनी के बीच मनी ट्रेल की जांच कर रही है.

Tags
Back to top button