कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन, पुलिस ने हाथ और पैर में ठोक दी कीलें

युवक रंजीत की मां कुसुम लता ने पत्रकारों से बातचीत में लगाया आरोप

बरेली:उत्तर प्रदेश के बरेली में कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर एक युवक के हाथ और पैर में पुलिस ने कीलें ठोक दी. लेकिन, पुलिस ने इससे साफ इनकार किया है.

बारादरी के जोगी नवादा के रहने वाले युवक रंजीत की मां कुसुम लता ने पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया कि कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर उसके बेटे के हाथ और पैर में कील ठोक दी गईं.

पुलिस ने आरोपों को बताया निराधार

बरेली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह साजवान ने इन आरोपों को पूरी तरह से निराधार बताया और कहा कि पुलिस से बचने के लिए आरोपी ने स्वयं इस काम को अंजाम दिया है. एसएसपी साजवान ने बताया कि रंजीत नाम का युवक 24 मई को बिना मास्क के घूम रहा था और इस बारे में टोकने पर उसने पुलिस कर्मियों के साथ बदतमीजी की थी. इस प्रकरण में उसके खिलाफ थाना बारादरी में मुकदमा दर्ज किया गया था.

पुलिस से बचने के लिए किया नाटक

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना के बाद आरोपी मौके से फरार हो गया था. इसके बाद से ही पुलिस उसकी तलाश में दबिश दे रही थी. मंगलवार रात भी पुलिस ने आरोपी के यहां दबिश दी थी लेकिन वो नहीं मिला. एसएसपी ने कहा कि पुलिस से बचने के लिए युवक ने ये नाटक किया. घटना 24 मई की है जबकि घटना के बाद से ही वो मौके से फरार हो गया था.

रंजीत को साथ ले गई थी पुलिस

मां कुसुम लता ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए आरोप लगाया कि बारादरी थाना क्षेत्र के जोगी नवादा का रहने वाला रंजीत (बेटा) सोमवार की रात करीब दस बजे अपने घर बाहर बैठा हुआ था, इसी बीच पुलिसकर्मी वहां पहुंचे. पुलिस ने सभी लोगों को मास्क लगाने को कहा.

उन्होंने कहा कि इस बीच रंजीत का पुलिस कर्मियों से विवाद हुआ था. उन्होंने दावा कि विवाद के बाद पुलिसकर्मी रंजीत को जबरन अपने साथ ले गए ले गए थे और बाद में पुलिसकर्मी उसको मरणासन्न अवस्था में फेंक कर चले गए.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button