छत्तीसगढ़

घर- घर पहुंच रही है कोरोना सर्वे टीम, पहले दिन 50476 घरों में दी दस्तक

लोगों से सहयोग की अपील

रायगढ़, 6 अक्टूबर 2020: कोरोना संक्रमण की चेन रोकने हेतु लक्षणयुक्त और हाई रिस्क लोगों की पहचान के लिए चलाए जा रहे सघन कोरोना सर्वे अभियान के पहले दिन 05 अक्टूबर को स्वास्थ्य विभाग सेे मिली जानकारी अनुसार जिले में 50476 घरों का सर्वे किया गया। सर्वे में लक्षणयुक्त 2271 व्यक्तियों का चिन्हांकन हुआ, इनमें हाईरिस्क वालों की संख्या 604 पायी गई। चिन्हांकित लोगों का आवश्यकतानुसार रैपिड एन्टीजन एवं आरटीपीसीआर टेस्ट किया जा रहा है।

जल्द पहचान जल्द निदान

शासन के निर्देशानुसार कोरोना सघन सामुदायिक सर्वे अभियान के अंतर्गत शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में डोर टू डोर सर्वे कर कोरोना के लक्षणयुक्त और ऐसे हाई रिस्क मरीजों की पहचान की जाएगी जिन्हें संक्रमण का खतरा अधिक है। इस अभियान का उद्देश्य कोरोना संक्रमित मरीजों की जल्दी पहचान कर उन्हें गंभीर स्थिति में जाने से पहले इलाज मुहैय्या कराना व संक्रमण को आगे फैलने से रोकना है।

लक्षणों को न करें नजर अंदाज

कलेक्टर भीम ने जिले वासियों से अपील की है कि ऐसे व्यक्ति जिन्हें कोरोना के लक्षण जैसे सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, शरीर में दर्द, दस्त तथा उल्टी होना, सूंघने अथवा हस होना आदि है या किसी गंभीर बीमारी जैसे कैंसर तथा किडनी रोग, टीबी, सिकलसेल, एड्स, उच्च रक्तचाप व डायबिटिज से ग्रसित व्यक्ति विशेषकर 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति, गर्भवती महिला, 5 वर्ष से कम आयु के बच्चे अनिवार्य रूप से सर्वे टीम को अपनी जानकारी देकर जांच करवाएं तथा समय से उपचार प्राप्त करें। अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही न दिखाएँ और लक्षणों को नजरअंदाज न करें, क्योंकि इसके परिणाम गंभीर हो सकते हैं।

सर्वे टीम को दें पूरी जानकारी

कलेक्टर सिंह ने लोगों से यह भी अपील की है कि सर्वे अभियान के अंतर्गत आने वाली टीम को पूरी जानकारी दें, कुछ छिपाएं नही। यह सारी कवायद लोगों की स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से ही कि जा रही है। उन्होंने बताया कि सर्वे के लिए चिकित्सा विभाग के साथ संबंधित क्षेत्र की मितानिन, आंगनबाडी कार्यकर्ता, सहायिका, पंचायत एवं ग्रामीण व नगरीय विकास के मैदानी अमले की संयुक्त टीम बनायी गयी है जो लोगों के घर-घर पहुंच रही है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button