महाराष्ट्र में रोका गया 18-44 के लोगों का कोरोना टीकाकरण, वैक्सीन की शॉर्टेज

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में महाराष्ट्र देश में पहले स्थान पर बना

मुंबई:कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में महाराष्ट्र देश में पहले स्थान पर बना हुआ है. पिछले 24 घंटे में वहां पर कोरोना के 46,781 नए मामले सामने आए. इसी अवधि में राज्य में कोरोना से 816 लोगों की मौत हो गई.

इन आंकड़ों के साथ ही महाराष्ट्र में कुल संक्रमितों की संख्या 52 लाख 26 हजार 710 और कुल मृतकों की संख्या 78 हजार के पार कर गई है. इस वजह से महाराष्ट्र में जारी लॉकडाउन 31 मई तक आगे बढ़ सकता है.

प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग और मंत्रियों की ओर से लॉकडाउन 15 दिन और बढ़ाने का प्रस्ताव सीएम कार्यालय भेजा गया है. अब इस प्रस्ताव पर सीएम उद्धव ठाकरे कोई अंतिम फैसला लेंगे.

महाराष्ट्र में 31 मई तक बढ़ेगा लॉकडाउन

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में सभी मंत्री लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर सहमत थे लेकिन बाद में इस पर आखिरी फैसला लेने का अधिकार सीएम उद्धव ठाकरे पर छोड़ दिया गया. अब वे इस पर राज्य के हालात को देखते हुए कोई फैसला लेंगे.

18+ वालों के लिए वैक्सीनेशन रोका गया

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीन की शॉर्टेज चल रही है. ऐसे में 18-44 के लोगों का कोरोना टीकाकरण फिलहाल रोकने का फैसला लिया गया है. इसके बजाय अब 45 साल से ऊपर वालों को वैक्सीन लगाने पर जोर दिया जाएगा. वैक्सीन की नई खेप आने पर 18 साल से ऊपर वालों के लिए भी टीकाकरण शुरू कर दिया जाएगा.

SII से मिलेंगी 1.5 करोड़ डोज

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि लोकल ट्रेनों को लेकर 15 मई तक प्रतिबंध जारी रहेंगे. इसके बाद हालात को देखते हुए आगे का फैसला लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि सीरम इंस्टिटयूट (SII) के सीईओ अदार पूनावाला ने मुख्यमंत्री से वादा किया है कि वे 20 मई के बाद महाराष्ट्र को कोविशील्ड की 1.5 करोड़ डोज़ देंगे. जब हमें वैक्सीन मिल जाएगी तब 18+ वालों का वैक्सिनेशन चालू करेंगे.

राजेश टोपे ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो बाहर के देशों से भी वैक्सीन खरीदी जा सकती है. केंद्र सरकार से अनुमति मिलने के बाद वैक्सीन की खरीद के लिए ग्लोबल टेंडर निकाला जाएगा. इस बारे में मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखेंगे.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button