कोरोना वायरस: सोनिया गांधी के अजीबोगरीब सलाह से उबल पड़ा देश का मीडिया

इस सलाह की मीडिया संगठनों ने तीखी आलोचना की

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोरोना वायरस से लड़ाई में सहयोग मांगने पर कांग्रेस नेता सोनिया गांधी द्वारा सरकार को सलाह देते हुए कहा गया कि सरकार को सरकारी उपक्रमों द्वारा मीडिया विज्ञापनों- टेलीविजन, प्रिंट एवं ऑनलाईन विज्ञापनों पर दो साल के लिए रोक लगाकर यह पैसा कोरोना संकट से जूझने में लगाया जाए।

केवल कोविड-19 के बारे में एडवाइजरी या स्वास्थ्य से संबंधित विज्ञापन ही इससे बाहर रखे जाएं। सोनिया की सलाह इमरजेंसी की याद दिलाने लगी जब देश की मीडिया पर पूरी तरह से पाबंदी लगाकर उसके विज्ञापन रोक दिये गए थे।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार मीडिया विज्ञापनों पर हर साल लगभग रु 1,250 करोड़ खर्च करती है। सरकारी उपक्रमों एवं कंपनियों द्वारा विज्ञापनों पर खर्च सालाना राशि इससे भी अधिक है। सरकार के विज्ञापन कई सारे मीडिया हाउस के लिए लाइफलाइन का काम करते हैं।

ऐसे में कांग्रेस नेता का ये सुझाव न सिर्फ मीडिया को कमजोर करने वाला बयान माना जा रहा है बल्कि कुछ लोग इसे कांग्रेस की मीडिया से खुन्नस के चलते बदलेवाला कदम बता रहे हैं। सोनिया की इस सलाह की मीडिया संगठनों ने तीखी आलोचना की है।

Tags
Back to top button