राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण का कहर जारी, शादी समारोह पर लगाई गई रोक

विवाह से संबंधित किसी भी प्रकार के समारोह, डीजे, बारात और प्रीतिभोज आदि की अनुमति 31 मई तक नहीं होगी

जयपुर: राजस्थान में गुरुवार को कोराना वायरस संक्रमण के 17,532 नये मामले सामने आये जबकि महामारी से 161 और मरीजों की मौत हो गयी. प्रदेश में अभी 1,98,010 उपचाराधीन मामले हैं जबकि अब तक कुल 5,182 लोगों की मौत हो चुकी है.

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने 10 मई से 24 मई तक 15 दिनों के लिए संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की घोषणा की है. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया. इस दौरान शादी समारोह पर भी रोक लगा दी गई है.

राज्य सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि राज्य में विवाह समारोह 31 मई के बाद ही आयोजित किए जाएं. विवाह से संबंधित किसी भी प्रकार के समारोह, डीजे, बारात और प्रीतिभोज आदि की अनुमति 31 मई तक नहीं होगी.

विवाह घर पर या कोर्ट मैरिज के रूप में ही करने की अनुमति होगी. जिनमें केवल 11 लोग उपस्थित हो सकते हैं. इसकी जानकारी प्रशासन को देनी होगी. विवाह में बैण्ड-बाजे, हलवाई, टैंट या इस प्रकार के अन्य किसी भी व्यक्ति के शामिल होने की अनुमति नहीं होगी.

सरकार द्वारा बयान में कहा गया है कि, ग्रामीण क्षेत्रों में श्रमिकों के संक्रमित होने के मामले सामने आए हैं, इसे देखते हुए मनरेगा के कार्य स्थगित रहेंगे. इस संबंध में दिशा निर्देश जारी किया जाएगा. सभी प्रकार के धार्मिक स्थल बंद रहेंगे. आम जन से अपील है कि पूजा-अर्चुना, इबादत, प्रार्थना घर पर रहकर ही करें.

मेडिकल सेवाओं के अतिरिक्त सभी प्रकार के निजी और सरकारी परिवहन के साधन- जैसे बस, जीप आदि पूरी तरह बंद रहेंगे. अंतर्राज्यीय एवं राज्य के भीतर माल का परिवहन करने वाले भारी वाहनों को आवागमन, माल की लोडिंग एवं अनलोडिंग की अनुमति होगी.

एक जिले से दूसरे जिले, एक शहर से दूसरे शहर, शहर से गांव, गांव से शहर में सभी प्रकार के आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा. राज्य के बाहर से आने वाले यात्रियों को 72 घंटे के भीतर करवाई गई आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट रखना अनिवार्य होगा.

श्रमिकों के पलायन को रोकने के लिए उद्योगों एवं निर्माण से संबंधित सभी इकाइयों में कार्य करने की अनुमित होगी. श्रमितों को आवागमन में असुविधा नहीं हो इसके लिए पहचान पत्र इन इकाइयों के द्वारा जारी किया जाएगा

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button