कोरोना वायरस ने मां-बाप को छीना, बेटी ने हासिल किए 99.8 % अंक

मुझे मजबूत रहने के साथ अपने जीवन और पढ़ाई फोकस करना होगा.

भोपाल: कोरोना वायरस (Coronavirus) की महामारी में अपने माता-पिता को गंवाने वाली वनिशा पाठक (Vanisha Pathak) ने सीबीएसई के 10वीं के रिजल्‍ट (CBSE 10th Result) में 99.8 फीसदी अंक हासिल किए हैं. यही नहीं, वनिशा ने भोपाल शहर के अन्‍य दो बच्‍चों के साथ टॉपर का टैग हासिल किया है. जबकि कोरोना से माता-पिता की मौत के बाद जुझारू वनिशा ने एक कविता में लिखा था, ‘ मैं एक मजबूत लड़की बनूंगी डैडी, तुम्हारे बिना.’ यकीनन उसकी आंखों में आंसूओं के स्थान पर दृढ़ इरादे थे. जबकि सीबीएसई के रिजल्‍ट में उसकी पोजिशन इस बात को पक्‍का कर रही है.

बहरहाल, कार्मेल कॉन्वेंट (भेल) की 16 वर्षीय छात्रा वनिशा उस समय सदमे और पीड़ा से जूझ रही थी, जब उसके सहपाठी परीक्षा की तैयारी कर थे. वनिशा पाठक ने टाइम्‍स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा, ‘मैंने एक हफ्ते के भीतर पापा और मां को खो दिया. मेरे सामने अंधेरा था और मुझे लगा कि मैंने अपने जीवन में सब कुछ खो दिया है. इसके साथ उसने कहा कि जब मैंने छोटे भाई को देख तो मुझे अहसास हुआ कि 16 साल की उम्र में मुझे इसके लिए माता-पिता की जिम्‍मेदारी उठानी होगी. मुझे मजबूत रहने के साथ अपने जीवन और पढ़ाई फोकस करना होगा.

वनिशा ने कहा कि मेरे पिता चाहते थे, मैं आईआईटी या फिर यूपीएससी क्रेक करके देश की सेवा करूं. अब पापा का सपना ही मेरा सपना है. बता दें कि वन‍िशा ने 10वीं में इंग्लिश, संस्‍कृत, साइंस और सोशल साइंस में परफेक्‍ट 100 का स्‍कोर किया है, तो मैथ में 97 फीसदी अंक हासिल किए हैं. वहीं, इस 16 साल की जुझारू लड़की के पिता जितेद्र कुमार एक कंपनी में फाइनेंशियल एडवाइजर थे. जबकि मां डॉक्‍टर सीमा पाठक पेश से सरकारी स्‍कूल टीचर थीं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button