परिवार पर बरसा कोरोना का कहर, छह और आठ साल की दो बच्चियां बची

हंसते-खेलते परिवार पर इतनी बड़ी आपदा देख पूरी सोसाइटी में डर का माहौल

नई दिल्ली:उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की क्रॉसिंग रिपब्लिक सोसाइटी में एक परिवार पर कोरोना का कहर बरपा. अप परिवार में सिर्फ छह और आठ साल की दो बच्चियां बची हैं. हंसते-खेलते परिवार पर इतनी बड़ी आपदा देख पूरी सोसाइटी में डर का माहौल बना हुआ है.

सोसाइटी में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि टॉवर-2 के फ्लैट नंबर 205 में दुर्गेश प्रसाद का परिवार रहता था. दुर्गेश रिटायर्ड शिक्षक थे. कोरोना संक्रमित होने के बाद दुर्गेश घर में ही आइसोलेट हो गए थे और दवा ले रहे थे, लेकिन एक दिन उनकी स्थिति बहुत बिगड़ गई. इसी दौरान उनकी पत्नी, बेटा और बहू भी कोरोना की चपेट में आ गए.

परिवार के इन चार सदस्यों की हुई मौत

इसके बाद दुर्गेश के घर में मौत का सिलसिला शुरू हो गया. 27 अप्रैल दुर्गेश प्रसाद की मौत हुई, 4 मई दुर्गेश के बेटे अश्विन की मौत हो गयी. अभी परिवार के लोग संभल पाते कि 5 मई दुर्गेश की पत्नी भी चल बसीं और 7 मई को अश्विन की पत्नी की भी कोरोना से मौत हो गई. महज 12 दिन के अंदर घर के चार सदस्यों की मौत हो गई.

अब घर में बस अश्विन की 8 साल और 6 साल की दो बेटियां बची हैं. फिलहाल दोनों मासूम बच्चियों को उनकी बुआ के घर बरेली भेज दिया गया है. लोगों का आरोप है कि दुर्गेश और उनके परिवार को समय रहते जरूरी सुविधाएं तक नहीं मिलीं, जिसके कारण आज दो बच्चियां अनाथ हो गईं और पूरा परिवार उजड़ गया.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button