टेक्नोलॉजीबड़ी खबर

Coronavirus Vaccine Update: कोरोना वायरस वैक्सीन के लेकर WHO का बड़ा बयान

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदानोम गेब्रेयसुस ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता में कहा कि टीकों का प्रयोग दशकों से सफलतापूर्वक किया जा रहा है.

लंदन: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी सुरक्षित और प्रभावी साबित होने से पहले किसी भी कोविड-19 टीके के उपयोग की सिफारिश नहीं करेगी. हालांकि, चीन और रूस ने व्यापक प्रयोग के समाप्त होने से पहले ही अपने टीके का उपयोग करना शुरू कर दिया है.

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदानोम गेब्रेयसुस ने शुक्रवार को प्रेसवार्ता में कहा कि टीकों का प्रयोग दशकों से सफलतापूर्वक किया जा रहा है. उन्होंने चेचक और पोलियो के उन्मूलन में इनके योगदान का जिक्र किया.उन्होंने कहा, ‘ मैं जनता को आश्वस्त करना चाहूंगा कि डब्ल्यूएचओ एक ऐसे टीके का समर्थन नहीं करेगा जो प्रभावी और सुरक्षित नहीं है.’

सारी दुनिया इस समय कोरोना के कहर से जूझ रही है और इस समय ज्यादातर देश कोरोना वैक्सीन पर काम कर रहे हैं. हर कोई बस इस बात का इंतजार कर रहा है कि आखिर कब वैक्सीन आएगी और इस बीमारी से निजात मिलेगा.

आपको बता दें कि हाल ही में रूस ने कोविड-19 से लड़ने के लिए स्पुतनिक V टीका बनाया है जो सुरक्षित माना जा रहा है. रूस ने अपने नागिरकों में इसका परीक्षण भी किया है. जिन लोगों में परीक्षण किया गया है उनमें अभी तक किसी भी प्रकार का कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं देखने को मिला है. उम्मीद जताई जा रही है कि अब जल्द ही दुनिया को रूस की तरफ से पहली कोरोना वायरस वैक्सीन मिल जाएगी.

‘टीके प्रभाव को जानन के लिए शुरूआती चरण के परीक्षण में कुल 76 लोगों को लगाया गया और 42 दिनों में टीका सुरक्षा के लिहाज से अच्छा नजर आया. इसने परीक्षणों में शामिल सभी लोगों में 21 दिनों के अंदर एंटीबॉडी भी विकसित की.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button