राज्य

कर्नाटक में लॉकडाउन हटने से कोरोना के मामले बढ़े

एहतियाती उपायों का पालन नहीं करने से भी बिगड़ रहे हालात

कर्नाटक में स्वास्थ्य अधिकारियों का मानना है कि लॉकडाउन हटने, अर्थव्यवस्था खोलने और हालिया सप्ताहों में कोरोना नमूनों के परीक्षण की संख्या बढ़ने से राज्य में कोविड-19 मामलों में अच्छी-खासी वृद्धि हुई है। आईएएनएस से बातचीत में ब्रुहट बेंगलुरु महानगर पालिक (बीबीएमपी) के आयुक्त मंजूनाथ प्रसाद ने सहमति जताई कि जून-जुलाई में लॉकडाउन के हटने से बेंगलुरु में मामले बढ़ गए हैं।

उन्होंने कहा, “हमने लॉकडाउन के लिए योजना बनाई, लेकिन यह भी सच है कि कई लोग जो बाहरी शहरों, राज्यों और देशों से आए थे, उन्होंने क्वारंटीन प्रक्रियाओं का पालन नहीं किया। इस प्रकार यह काफी हद तक फैल गया। इसके अलावा, लॉकडाउन के बाद कई लोग प्रारंभिक चरण में जांच नहीं करवाया, जिसके परिणामस्वरूप अब कोविड संबंधित मौतों में भी वृद्धि हुई है।”

उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकारी स्वामित्व वाले अस्पतालों में कोरोना मामलों की वर्तमान दर के लिहाज से बुनियादी ढांचा पर्याप्त हैं। उन्होंने इस पर अफसोस जताया कि बेंगलुरु में लोग मास्क पहनने जैसे एहतियाती उपायों का पालन नहीं कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हालांकि कई लोग मास्क पहनते हैं, लेकिन वे इसे ठीक से नहीं पहनते हैं जैसे कि नाक के साथ-साथ मुंह को भी ढंकना। हालांकि, बीबीएमपी उन लोगों पर कड़ी निगरानी रख रहा है जो मास्क पहनने के नियमों की धज्जियां उड़ाते हैं, लेकिन यह भी उतना ही सच है कि अधिकारी बेंगलुरु जैसे शहर में प्रत्येक पर नजर नहीं रख सकते ।

इसके अलावा, उन्होंने दावा किया कि हाल के सप्ताहों में जांचों की संख्या में भी काफी वृद्धि हुई है, जिसके परिणामस्वरूप मामलों की संख्या में लगातार वृद्धि हुई है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button